सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

नए वेरिएंट फैलने की आशंका : आश्रमों और गेस्ट हाउस में भी देना होगा अब कोरोना जांच का प्रमाणपत्र

  मथुरा / उत्तर प्रदेश के मथुरा जनपद में वृन्दावन शहर में दस विदेशी एवं एक देशी नागरिक के कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने सभी गेस्ट हाउसों एवं आश्रमों को कहा है कि वे अपने आने वाले हर देशी-विदेशी मेहमान का पूरा ब्योरा रखें और उनके पास कोरोना जांच का नेगेटिव प्रमाण पत्र होने के बाद ही उन्हें अपने यहां ठहराएं। गौरतलब है कि लंबे समय तक कोरोना वायरस का मामला नहीं आने के बाद बरती गई लापरवाही के बाद अब फिर से कोरोना संक्रमितों के मिलने का सिलसिला चल पड़ा है। वृन्दावन में पिछले सप्ताह से अब तक दस विदेशी एवं एक उड़ीसा की भारतीय नागरिक संक्रमित पाई जा चुकी है। तीन विदेशी जिला स्तर पर कोई सूचना दिए बिना यहां से लौट भी चुके हैं। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. रचना गुप्ता ने कहा है कि गेस्ट हाउस एवं आश्रम बाहर से आने वाले व्यक्तियों के रुकने से पूर्व उनके कोविड वैक्सीनेशन प्रमाणपत्र एवं कोविड-19 जांच रिपोर्ट प्राप्त कर ही उन्हें ठहराएं तथा ऐसा नहीं होने पर वे तत्काल स्वास्थ्य विभाग के नियंत्रण कक्ष को रिपोर्ट करें। उनके अनुसार नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। न

चकराता दुर्घटना: 15 लोग सवार थे नौ सीटर वाहन में,खाई में गिरते ही 13 की चली गई जान

 


 देहरादून में विकासनगर के बायला-पिंगुवा मोटर मार्ग पर चकराता तहसील अंतर्गत राजस्व क्षेत्र बायला के पास बोलेरो अनियंत्रित होकर करीब 400 मीटर गहरी खाई में जा गिरी। हादसे में वाहन में सवार 13 लोगों की मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई, जिसमें से 11 एक ही गांव बायला के रहने वाले थे। मृतकों में आठ पुरुष और पांच महिलाएं शामिल हैं। जबकि दो गंभीर घायल अस्पताल में भर्ती हैं।बताया जा रहा है कि नौ सीटर वाहन में 15 लोग सवार थे।


 खाई में गिरते ही वाहन के परखच्चे उड़ गए। हादसा रविवार सुबह करीब 8:10 बजे बायला गांव से करीब 100 मीटर आगे हुआ। हादसे की सूचना मिलते ही चकराता थाना पुलिस, एसडीआरएफ की टीम मौके पर पहुंची और राहत और बचाव कार्य शुरू कर दिया।कड़ी मशक्कत के बाद सभी शवों और घायलों को खाई से बाहर निकाला जा सका। दोनों गंभीर घायल सीएचसी चकराता में भर्ती हैं। बोलेरो बायला गांव से विकासनगर आ रही थी। दुर्घटना के कारणों की जांच की जा रही है।वहीं, हादसे के मामले में परिवहन विभाग की कार्यशैली पर सवालों के घेरे में है। एक माह पूर्व चकराता, विकासनगर, त्यूनी क्षेत्र के लोगों ने अधिकारियों को पत्र सौंपकर अनफिट और वाहनों में ओवरलोडिंग के बाबत शिकायत की थी। आरटीओ (प्रवर्तन) के निर्देश पर अभियान भी चलाया गया, लेकिन ठोस कार्रवाई के अभाव में संचालन बंद नहीं हुआ। 



टिप्पणियाँ

Popular Post

चित्र

बदायूं: बिसौली आरक्षित सीट को लेकर राजनीतिक दलों में गहन मंथन, भाजपा से सीट छीनने की फिराक में सपा आशुतोष मौर्य पर फिर खेल सकती है दांव