लखीमपुर खीरी बवाल: केंद्रीय मंत्री के बेटे के खिलाफ मारे गए पत्रकार के पिता ने एफआईआर के लिए दी तहरीर

 

 


  यूपी के लखीमपुर खीरी में हुए बवाल का मामला जल्द थमता नहीं दिखाई दे रहा है। रविवार को जिले के तिकोनिया इलाके में हुई घटना में चार किसानों समेत आठ लोगों की मौत हो गई। मरने वालों में पत्रकार रमन कश्यप भी शामिल है। रमन की मौत से उसके परिवार में मातम पसरा हुआ है। मंगलवार को रमन के पिता ने केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे के खिलाफ पुलिस को तहरीर दी है।रमन के पिता दाम दुलारे ने बताया कि मेरा बेटा कवरेज करने के लिए हादसे वाली जगह पर गया था और वहां उसकी मौत हो गई। उन्होंने कहा कि मेरा बेटा किसान आंदोलन की कवरेज करने गया था। इसी दौरान केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा ने चढ़ा दी कार और उसकी मौत हो गई। उन्होंने कहा कि यह घटना तकरीबन पौने 4 बजे की है। ना तिकोनिया और ना ही निघासन में उसका इलाज किया गया. सीधे-सीधे लखीमपुर में उसके शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया।पीड़ित पिता ने आगे बताया कि अगले दिन सुबह तड़के 3 बजे मुझे जानकारी मिली कि एक शव मॉर्चरी में पड़ा हुआ है, तब जाकर मैंने चार बजे देखा और फिर पहचाना कि यह शव मेरे बेटे का ही है। उन्होंने उम्मीद जताई कि अगर सही समय पर बेटे को इलाज मिल जाता तो उसकी मौत नहीं होती। साथ ही यदि पुलिस फोर्स वहां पर सही तरीके से तैनात की गई होती तो रविवार दोपहर को हई घटना रुक सकती थी।रमन की मौत कोई हादसा नहीं, दर्दनाक तरीके से की गई हत्यावहीं, घटनास्थल पर मौजूद एक पत्रकार विनीत कुमार गुप्ता ने दावा किया कि रमन की मौत कोई हादसा नहीं थी, बल्कि उसकी दर्दनाक तरीके से हत्या की गई है। विनीत ने कहा कि किसान अपना कार्यक्रम कर रहे थे. जो एक काले झंडे को दिखाना था, वह दिखा रहे थे, तभी बीजेपी की तीन गाड़ियां तिकोनिया से आ रही थीं और उनकी स्पीड काफी ज्यादा था। आगे एक थार गाड़ी थी, उसके पीछे फॉरच्यूनर।  किसान प्रदर्शन कर रहे थे और उनके बीच में हमारा पत्रकार भाई था जब उसे ठोकर लगी तो वह गिर गया। इसके बाद पीछे चोट लगी और उसे घसीटते हुए निकल गए।