सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

पूर्व मुख्‍यमंत्री त्रिवेंद सिंह रावत नहीं लड़ेंगे चुनाव

 देहरादून : बहुत बड़ी खबर निकल कर सामने आ रही है कि उत्‍तराखंड के पूर्व मुख्‍यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत इस बार विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे। जानकारी के मुताबिक उन्‍होंने भाजपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष जेपी नड्डा को पत्र लिखकर यह इच्‍छा जाहिर की है। उन्‍होंने कहा कि धामी के नेतृत्‍व में भाजपा की सरकार बनाने के लिए काम करना चाहता हूं।  जेपी नडडा को लिखे पत्र में उन्‍होंने मुख्‍यमंत्री के रूप में कार्य करने का अवसर देने के लिए आभार भी व्‍य‍क्‍त किया है। साथ ही ये भी कहा है कि प्रदेश में युवा नेतृत्‍व वाली सरकार अच्‍छा काम कर रही है। उन्‍होंने कहा, बदली हुई राजनीतिक परिस्थितियों में मुझे चुनाव नहीं लड़ना चाहिए। इसलिए मेरा अनुरोध स्‍वीकार कर लिया जाए। आपको बता दें कि त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पत्र में लिखा कि मान्‍यवार पार्टी ने मुझे देवभूमि उत्‍तराखंड के मुख्‍यमंत्री के रूप में सेवा करने का अवसर दिया यह मेरा परम सौभाग्‍य था। मैंने भी कोशिश की कि पवित्रता के साथ राज्‍य वासियों की एकभाव से सेवा करुं व पार्टी के संतुलित विकास की अवधारणा को पुष्‍ट करूं। प्रधानमंत्री जी का भरपूर सहयोग व आशीर्वाद मु

महिला बोली- कोरोना का टीका लगाया तो सांप से डसवा दूंगी, मेडिकल टीम के सामने लाकर ​रखा कोबरा

 


  अजमेर /  देश में कोरोना वायरस का खात्मा करने के लिए टीकाकरण अभियान जारी है। लोग जहां अस्पतालों व शिविरों में पहुंचकर कोरोना का टीका लगवा रहे हैं। वहीं, मेडिकल टीमें घर-घर पहुंचकर भी वैक्सीनेशन कर रही है।मेडिकल टीमों के सामने अजीब स्थिति इस बीच कोरोना के टीके को लेकर लोगों में अफवाहें भी खूब फैल रही हैं, जिनकी वजह से लोग कोरोना का टीका लगवाने से बच रहे हैं। कई बार मेडिकल टीमों को अजीब स्थिति का सामना करना पड़ रहा है।ऐसा ही एक मामला राजस्थान के अजमेर जिले के पीसांगन उपखंड क्षेत्र के नागेलाव में देखने को मिला है। यहां पर मेडिकल टीम कालबेलियों के डेरे में कोरोना का टीका लगाने पहुंची थी। तब घर पर महिला सपेरा कमलादेवी थी। बेटी के साथ रिटायर्ड कर्नल के डांस को राजस्थान के कमलादेवी ने मेडिकल टीम को टीका लगवाने से साफ इनकार कर दिया। इस पर टीम के सदस्यों ने उसे काफी समझाया और उसके स्वास्थ्य का हवाला देते हुए उसे कोरोना का टीका लगवाने को मनाना चाहा। इस पर कमला देवी अपने घर के अंदर गई और कोबरा सांप उठा लाई।मेडिकल टीम के पसीने छूट गए टीम से वह बोली कि अगर उसके जबरन कोरोना टीका लगाया गया तो वह उन पर सांप छोड़ देगी। सांप से डसवा देगी। इस पर एक बारगी तो मेडिकल टीम के पसीने छूट गए। बाद में आस-पास के ग्रामीण एकत्रित हुए और कालबेलिया परिवारों से समझाइश की तब जाकर यहां बीस लोगों के टीके लगाया जा सके। बीसीएमएचओ घनश्याम मोयल बताते हैं कि डोर टू डोर टीकाकरण के तहत पीएचसी नागेलाव की डॉ. चारू झा के नेतृत्व में एएनएम किरण, कोविड स्वास्थ्य सहायक नरेंद्र कुमार, आशा सहयोगिनी प्रीति चौहान व मंगलीदेवी की टीम कालबेलिया बस्ती में टीका लगाने गई थी। तब महिला सपेरा उन पर सांप छोड़ने को तैयार हो गई थी।

टिप्पणियाँ

Popular Post