सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

त्रिपुरा हिंसा : सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और राज्‍य सरकार को दो हफ्ते के भीतर जवाब देने के दिए निर्देश

    नई दिल्‍ली /   सुप्रीम कोर्ट त्रिपुरा में हाल ही में हुई सांप्रदायिक हिंसा के मामले में राज्य पुलिस की कथित मिली-भगत और निष्क्रियता के आरोपों की स्वतंत्र जांच के लिए दाखिल याचिका पर सुनवाई के लिए सहमत हो गया है। सुप्रीम कोर्ट ने इस याचिका पर सोमवार को केंद्र और राज्य सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। न्यायमूर्ति डीवाई चन्द्रचूड़ और न्यायमूर्ति एएस बोपन्ना की पीठ ने सरकारों को दो हफ्ते के भीतर जवाब देने का निर्देश दिया है।  अधिवक्ता ई. हाशमी की ओर से दाखिल याचिका पर अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने पैरवी की। उन्‍होंने सर्वोच्‍च अदालत से कहा कि वे हालिया साम्प्रदायिक दंगों की स्वतंत्र जांच चाहते हैं। इस मामले में अब दो हफ्ते बाद सुनवाई होगी। भूषण ने कहा कि सर्वोच्‍च अदालत के समक्ष त्रिपुरा के कई मामले लंबित हैं। पत्रकारों पर यूएपीए के आरोप लगाए गए हैं। यही नहीं कुछ वकीलों को नोटिस भेजा गया है। पुलिस ने हिंसा के मामले में कोई एफआइआर दर्ज नहीं की है। ऐसे में अदालत की निगरानी में इसकी जांच एक स्वतंत्र समिति से कराई जानी चाहिए। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने याचिका की प्रति केंद्रीय एजेंसी और

लखीमपुर खीरी हिंसा: अंकित दास के फ्लैट से एसआईटी ने बरामद किया असलहा, सीसीटीवी से कई अहम सुराग लगे हाथ

 


  लखीमपुर हिंसा का रिक्रिएशन करने के बाद शुक्रवार को पुलिस की विशेष जांच कमेटी पूर्व केंद्रीय मंत्री व कांग्रेस नेता अखिलेश दास के भतीजे अंकित दास व उसके साथी लतीफ काले को लेकर लखनऊ पहुंची। करीब चार घंटे तक लखनऊ के चार ठिकानों को पुलिस की विशेष जांच कमेटी ने खंगाला। इस दौरान उसके हुसैनगंज स्थित एमआई अपार्टमेंट से असलहा बरामद कर लिया। इसके बाद टीम उसे लेकर लखीमपुर निकल गई।पुलिस की विशेष जांच कमेटी की टीम दोपहर बाद लखनऊ पहुंची। सबसे पहले हुसैनगंज के पुराना किला स्थित उसके आवास पर गई। लेकिन वहां रूकी नहीं। फिर एमआई अपार्टमेंट में गई। जहां अंकित दास का फ्लैट है। वहां से पुलिस टीम ने एक रिवाल्वर व रिपीटर (बंदूक) बरामद की। इसके बाद आरोपी को लेकर गोमतीनगर के फन मॉल के पीछे सागर सोना होटल लेकर गई। जहां काफी देर तक रूकी रही। इसके बाद देर शाम को उसे लेकर लखीमपुर निकल गई।3 अक्तूबर को लखीमपुर के तिकुनिया में हुए हिंसा के बाद गठित पुलिस की विशेष जांच कमेटी ने बृहस्पतिवार को वहां घटनाक्रम का रिक्रिएशन किया। इसके लिए मुख्य आरोपी आशीष मिश्र व उसके दोस्त अंकित दास को लेकर वारदात स्थल पहुंची। जहां करीब दो घंटे तक रिक्रिएशन होता रहा। इस दौरान कुछ पुलिस ने कृषि कानून को वापस लो... नारेबाजी करते हुए काले झंडे दिखाए। तो कुछ ने पुलिस जीप पर बैठकर किसानों के पुतलों को रौंदा।

मुख्य आरोपी को बृहस्पतिवार रात को भेजा गया


लखीमपुर हिंसा के मुख्य आरोपी केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र टेनी के बेटे आशीष मिश्र की रिमांड पूरी होने के 15 घंटे पहले ही उसे जेल में दाखिल कर दिया गया। उसकी रिमांड शुक्रवार सुबह 10 बजे पूरी होनी थी। लेकिन पुलिस की विशेष जांच कमेटी ने पूछताछ व रिक्रिएशन के बाद बृहस्पतिवार शाम को 7 बजे ही जेल में दाखिल कर दिया ।

पूर्व केंद्रीय मंत्री का भतीजा भाग गया था नेपाल
पुलिस की विशेष जांच कमेटी ने दूसरे आरोपी पूर्व केंद्रीय मंत्री व कांग्रेस नेता अखिलेश दास के भतीजे अंकित दास से काफी देर तक पूछताछ की गई। इस दौरान उसने बताया कि वारदात के बाद वह लखनऊ स्थित पुराना किला घर पहुंचा। वहां अपने क्ले स्कावयर स्थित एमआई अपार्टमेंट स्थित फ्लैट पर गया। जहां असलहे रखने के बाद अपने गोमतीनगर स्थित होटल सागर सोना में चला गया। वहां रुकने के बाद एक दोस्त की गाड़ी लेकर नेपाल निकल गया। टीवी पर आशीष की गिरफ्तारी की जानकारी होने पर अपने वकील से संपर्क किया। इसके बाद वह क्राइम ब्रांच के सामने हाजिर हो गया।

अंकित व लतीफ काले को लेकर लखनऊ पहुंची टीम
लखीमपुर हिंसा के आरोपी पूर्व केंद्रीय मंत्री अखिलेश दास के भतीजे अंकित दास व उसके करीबी सुरक्षाकर्मी लतीफ काले को लेकर पुलिस की विशेष जांच कमेटी शुक्रवार दोपहर को लखनऊ पहुंची। करीब चार घंटे तक उसके साथ कई ठिकानों पर पड़ताल की गई। इस दौरान पुलिस के हाथ एक लाइसेंसी रिवाल्वर और एक रीपीटर बंदूक हाथ लगी। दोनों का लाइसेंस अंकित दास के नाम बताया है। पुलिस इसके बाद उसे लेकर गोमतीनगर फन मॉल के पीछे स्थित होटल सागर सोना लेकर गई। जहां उससे कमरे के बारे में जानकारी हासिल की। जिसमें वह रूका था। पुलिस टीम वहां पर करीब एक घंटे तक रही।

सीसीटीवी फुटेज खंगालने में जुटी


पुलिस की विशेष जांच कमेटी अंकित दास से होटल सागर सोना में काफी देर तक पूछताछ की। इसके बाद उसके द्वारा बताए गए तारीख के आसपास के सभी दिनों की सीसीटीवी फुटेज खंगालनी शुरू की। पुलिस ने होटल का डीवीआर अपने कब्जे में ले लिया है। होटल के फुटेज में कई अहम सुराग पुलिस की विशेष जांच कमेटी के हाथ लगे हैं। जिनके आधार पर कुछ अन्य लोगों के बारे में जानकारी मिल सकती है। जो अंकित दास को नेपाल तक ले जाने में मदद की थी। पुलिस इन मददगारों की सूची तैयार की है।

Sources:Amarujala

टिप्पणियाँ

Popular Post