सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

नए वेरिएंट फैलने की आशंका : आश्रमों और गेस्ट हाउस में भी देना होगा अब कोरोना जांच का प्रमाणपत्र

  मथुरा / उत्तर प्रदेश के मथुरा जनपद में वृन्दावन शहर में दस विदेशी एवं एक देशी नागरिक के कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने सभी गेस्ट हाउसों एवं आश्रमों को कहा है कि वे अपने आने वाले हर देशी-विदेशी मेहमान का पूरा ब्योरा रखें और उनके पास कोरोना जांच का नेगेटिव प्रमाण पत्र होने के बाद ही उन्हें अपने यहां ठहराएं। गौरतलब है कि लंबे समय तक कोरोना वायरस का मामला नहीं आने के बाद बरती गई लापरवाही के बाद अब फिर से कोरोना संक्रमितों के मिलने का सिलसिला चल पड़ा है। वृन्दावन में पिछले सप्ताह से अब तक दस विदेशी एवं एक उड़ीसा की भारतीय नागरिक संक्रमित पाई जा चुकी है। तीन विदेशी जिला स्तर पर कोई सूचना दिए बिना यहां से लौट भी चुके हैं। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. रचना गुप्ता ने कहा है कि गेस्ट हाउस एवं आश्रम बाहर से आने वाले व्यक्तियों के रुकने से पूर्व उनके कोविड वैक्सीनेशन प्रमाणपत्र एवं कोविड-19 जांच रिपोर्ट प्राप्त कर ही उन्हें ठहराएं तथा ऐसा नहीं होने पर वे तत्काल स्वास्थ्य विभाग के नियंत्रण कक्ष को रिपोर्ट करें। उनके अनुसार नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। न

सिंघु बार्डर : हवन करने पर अड़े प्रदर्शनकारियों और पुलिस में भिड़ंत, पूरा इलाका छावनी में तब्दील

आउटर नार्थ पुलिस को बुधवार को सिंघु बार्डर पर हवन करने के लिए अड़े प्रदर्शनकारियों को नियंत्रित करने के लिए हल्का लाठी चार्ज करना पड़ा। फिलहाल पुलिस ने सिंघु बार्डर से दो किमी दूर ही प्रदर्शनकारियों को रोक लिया गया है। वहीं पूरे इलाके को पुलिस छावनी में बदल दिया गया है।दरअसल, सिंघु बार्डर पर लखविंदर की हुई निर्मम हत्या के विरोध में हिंद मजदूर किसान समिति के कार्यकर्ताओं ने हवन करने का निर्णय लिया था। संगठन ने पंजाब सरकार से लखविंदर के परिजनों को 50 लाख रुपये की आर्थिक सहायता एवं सरकारी नौकरी देने की मांग की। कार्यकर्ताओं का कहना था कि यूपी सरकार की तरह सहायता तुरंत मुहैया करानी चाहिए। 


संगठन के कार्यकर्ता विभिन्न इलाकों से दिल्ली में प्रवेश कर बोंकू की रसोई के पास पहुंचे थे। पुलिस द्वारा उन्हें रोकने के लिए पहले ही बैरिकेडिंग की व्यवस्था की गई थी। मौके पर डीसीपी एवं जिले के अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे। इस दौरान संगठन के कार्यकर्ता बैरिकेडिंग तोड़कर सिंघु बार्डर की तरफ बढ़ने लगे। वे लखविंदर की आत्मा की शांति के लिए घटनास्थल पर हवन करना चाहते थे। इसके लिए सिंघु बार्डर पर लगी बैरिकेडिंग को हटाने की घोषणा कर चुके थे। जब वे नहीं रुके तो पुलिस को हल्की लाठी चार्ज करना पड़ा। इस दौरान सड़क पर अफरा-तफरी मच गई और कुछ लोग मामूली रुप से चोटिल भी हुए। इसके बाद पुलिस कालोनी की तरफ जाने वाली सड़क पर करीब पांच सौ की संख्या में प्रदर्शनकारी बैठ गये। उन्होंने पुलिस पर ज्यादती करने का आरोप लगाया।

टिप्पणियाँ

Popular Post

चित्र

बदायूं: बिसौली आरक्षित सीट को लेकर राजनीतिक दलों में गहन मंथन, भाजपा से सीट छीनने की फिराक में सपा आशुतोष मौर्य पर फिर खेल सकती है दांव