सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

नए वेरिएंट फैलने की आशंका : आश्रमों और गेस्ट हाउस में भी देना होगा अब कोरोना जांच का प्रमाणपत्र

  मथुरा / उत्तर प्रदेश के मथुरा जनपद में वृन्दावन शहर में दस विदेशी एवं एक देशी नागरिक के कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने सभी गेस्ट हाउसों एवं आश्रमों को कहा है कि वे अपने आने वाले हर देशी-विदेशी मेहमान का पूरा ब्योरा रखें और उनके पास कोरोना जांच का नेगेटिव प्रमाण पत्र होने के बाद ही उन्हें अपने यहां ठहराएं। गौरतलब है कि लंबे समय तक कोरोना वायरस का मामला नहीं आने के बाद बरती गई लापरवाही के बाद अब फिर से कोरोना संक्रमितों के मिलने का सिलसिला चल पड़ा है। वृन्दावन में पिछले सप्ताह से अब तक दस विदेशी एवं एक उड़ीसा की भारतीय नागरिक संक्रमित पाई जा चुकी है। तीन विदेशी जिला स्तर पर कोई सूचना दिए बिना यहां से लौट भी चुके हैं। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. रचना गुप्ता ने कहा है कि गेस्ट हाउस एवं आश्रम बाहर से आने वाले व्यक्तियों के रुकने से पूर्व उनके कोविड वैक्सीनेशन प्रमाणपत्र एवं कोविड-19 जांच रिपोर्ट प्राप्त कर ही उन्हें ठहराएं तथा ऐसा नहीं होने पर वे तत्काल स्वास्थ्य विभाग के नियंत्रण कक्ष को रिपोर्ट करें। उनके अनुसार नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। न

डेंगू का डंकः अब तक उत्तराखंड में मिले 370 मरीज, हरिद्वार में एक की हुई मौत

 


 देहरादून  /  जिले में डेंगू के छह और मरीज मिले हैं। इस तरह से मौजूदा सीजन में जिले में डेंगू पीड़ितों की संख्या 101 पहुंच गई है। सभी की स्थिति ठीक बताई गई है। उत्तराखंड में 27 अक्तूबर तक डेंगू के कुल 370 मरीज सामने आए हैं और एक मरीज की मौत हुई है। मृतक हरिद्वार का रहने वाला था।


देहरादून जिले में बुधवार को मिले डेंगू मरीजों में तीन महिलाएं और तीन पुरुष हैं। महिलाएं इंदर बाबा मार्ग, शिमला बाईपास व माजरा की रहने वाली हैं। तीनों महिलाएं अपने घरों पर हैं। तीन पुरुष मरीज नकरौंदा, जौलीग्रांट एयरपोर्ट और हर्रावाला के रहने वाले हैं। इनमें जौलीग्रांट निवासी मरीज कैलाश अस्पताल में भर्ती हैं। बाकी दो अपने घर पर हैं।जिला वेक्टर जनित रोग अधिकारी सुभाष जोशी ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग, नगर निगम और अन्य संबंधित विभागों की संयुक्त टीमें डेंगू प्रभावित और संवेदनशील क्षेत्रों में लार्वा का पता लगाने, उन्हें नष्ट करने और मच्छर को मारने के लिए फॉगिंग कर रही हैं।वहीं हरिद्वार जिले के लंढौरा के जैनपुर झंझेड़ी गांव में गंदगी और मच्छरों के प्रकोप से बचने के लिए ग्रामीणों ने खुद के खर्च से फॉगिंग कराई। साथ ही अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों पर गांव की अनदेखी करने का आरोप लगाया। चेतावनी दी कि गांव की समस्याओं पर ध्यान नहीं दिया गया तो आंदोलन किया जाएगा।


जैनपुर झंझेड़ी गांव में लंबे समय से सफाई नहीं हुई है। जगह-जगह गंदगी के ढेर लगे हैं और नालियां कीचड़ से भरी हैं। गंदगी के चलते मच्छरों का प्रकोप बढ़ने से डेंगू और वायरल फैल रहा है। ग्रामीणों ने कई बार अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों से सफाई की मांग की, लेकिन किसी ने ध्यान नहीं दिया। अब गांव के ही सौरभ कन्नौजिया और पूर्व प्रधान कौशर अली ने खुद के खर्च से कीटनाशक दवाई का छिड़काव कराया। साथ ही सफाई अभियान चलाया। भगवानपुर के अलावलपुर गांव में दो लोगों की संदिग्ध बुखार से मौत हो गई। दोनों की मौत एक ही दिन में अलग-अलग अस्पतालों हुई है। वहीं बुधवार को रुड़की में पांच लोगों सहित 22 लोगों में डेंगू की पुष्टि हुई है। अब जिले में डेंगू पीड़ित मरीजों की संख्या 270 पहुंच गई है। लंढौरा क्षेत्र के साथ ही अब डेंगू ने भगवानपुर क्षेत्र में फैल गया है। दस दिन में जहां खेड़ी शिखोपुर में ही दो लोगों की मौत संदिग्ध बुखार से हुई है। वहीं अब अलावलपुर गांव में भी संदिग्ध बुखार की चपेट में आने से एक महिला और एक युवक की मौत हो गई है।


गांव में बुखार के केस बढ़ने पर ग्रामीणों ने मामले की जानकारी स्वास्थ्य विभाग को दी। टीम ने अलावलपुर के साथ ही धीरमजरा और सिकरोढ़ा में पहुंचकर करीब 150 लोगों के सैंपल लिए हैं। इसके साथ ही 330 लोगों को दवाई भी वितरित की गई। जिला मलेरिया अधिकारी डॉ. गुरनाम सिंह ने बताया कि गांव में दो लोगों की मौत की सूचना मिली थी। गांव में टीम भेजकर लोगों के सैंपल लिए हैं।उन्होंने बताया कि बुधवार को आई रिपोर्ट में 22 लोगों में डेंगू की पुष्टि हुई है। इसमें पांच रुड़की शहर के लोग भी शामिल है। इसके अलावा अकबरपुर में छह, मुंडलाना में एक, मानक मजरा में एक, सोहलपुर में एक, सैदपुर में एक और गाधारोणा में सात मरीज मिले हैं। 



टिप्पणियाँ

Popular Post

चित्र

बदायूं: बिसौली आरक्षित सीट को लेकर राजनीतिक दलों में गहन मंथन, भाजपा से सीट छीनने की फिराक में सपा आशुतोष मौर्य पर फिर खेल सकती है दांव