उत्तराखंड: पंडा पुरोहित समाज 17 अगस्त से पूरे सूबे में देवस्थानम बोर्ड के खिलाफ करेंगे आंदोलन

 


  देवस्थानम बोर्ड को खत्म करने की मांग को लेकर चारधाम तीर्थपुरोहित हक-हकूकधारी महापंचायत समिति ने 17 अगस्त के बाद पूरे प्रदेश में सरकार के खिलाफ बिगुल बजाने का एलान किया है। ऋषिकेश में आयोजित प्रेसवार्ता में समिति के अध्यक्ष श्रीकांत कोटियाल ने कहा कि प्रदेश सरकार देवस्थानम बोर्ड को निरस्त करने को लेकर गंभीर नहीं है। वह वर्तमान मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से भी बोर्ड को निरस्त करने की मांग कर चुके हैं, लेकिन मुख्यमंत्री ने हाई पावर कमेटी बनाकर इसके समाधान करने की बात कही है। जो पंडा पुरोहितों को मंजूर नहीं है।इस बार पंडा पुरोहित समाज के लोग भारतीय जनता पार्टी को सबक सिखाने का काम करेंगे। उन्होंने कहा कि इस आंदोलन के दौरान अलग-अलग क्षेत्रों के जनप्रतिनिधियों का अंडे और टमाटर से स्वागत किया जाएगा। उन्हें काले झंडे भी दिखाए जाएंगे। बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री, यमुनोत्री, ऊखीमठ, रुद्रप्रयाग, देवप्रयाग, ऋषिकेश और देहरादून में भी आंदोलन शुरू किया जाएगा। जिसमें पंडा पुरोहित समाज के लोग पहले क्रमिक अनशन करेंगे, फिर आमरण अनशन करेंगे। उन्होंने बताया कि द्वारिका पीठ के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने भी देवस्थानम बोर्ड को हिंदू धर्म के खिलाफ बताया है। बैठक में समिति के लक्ष्मीनारायण जुगरान, राकेश कोटियाल अरविंद कोटियाल आदि थे।

तीर्थपुरोहितों ने भाजपा की प्राथमिक सदस्यता से दिया त्यागपत्र


रुद्रप्रयाग में देवस्थानम बोर्ड को भंग करने की मांग को लेकर भाजपा से जुड़े तीर्थपुरोहितों ने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से त्यागपत्र देना शुरू कर दिया है। साथ ही मांगपूर्ति न होने पर उग्र आंदोलन के साथ आमरण अनशन की चेतावनी भी दी है।शनिवार को केदार सभा के अध्यक्ष विनोद शुक्ला के नेतृत्व में तीर्थपुरोहितों ने केदारनाथ मंदिर परिसर में नारेबाजी कर धरना दिया। इसके बाद मंदिर मार्ग से संगम होते हुए हेलीपैड तक जुलूस भी निकाला। इस दौरान भाजपा से जुड़े दीपनारायण शुक्ला, देवेंद्र शुक्ला, संजय शुक्ला, मुकेश बहुगुणा, अरविंद शुक्ला, अमित बगवाड़ी, हजारी प्रसाद सेमवाल, सतीश शुक्ला, प्रियांशु तिवारी, पवन कुमार, ललित शुक्ला आदि ने प्राथमिक सदस्यता से त्यागपत्र दिया।