सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

मार्च से लगेगी 12 से 14 साल तक के बच्चों को वैक्सीन

जैसा की मालूम है कि देश में कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ टीकाकरण अभियान बहुत तेजी से चल रहा है। इसी कड़ी में 3 जनवरी से सरकार ने 15 से 18 साल के बच्चों के लिए टीकाकरण शुरू किया था। इसके अलावा 60 साल से ज्यादा उम्र के लोगों के लिए बूस्टर डोज की भी शुरुआत हो चुकी है।]  इन सबके बीच बच्चों के वैक्सीनेशन को लेकर अच्छा समाचार आ रहा है। आपको बता दें देश में मार्च महीने से 12 से 14 साल तक के बच्चों का कोरोना वैक्सीनेशन लगना शुरू हो जाएगा। इस बात की जानकारी टीकाकरण पर राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार समूह के प्रमुख एनके अरोड़ा ने दी। आपको बता दें कि देश में राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान के तहत अभी तक कोविड.19 रोधी टीकों की 157.20 करोड़ से अधिक खुराक दी जा चुकी हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ मनसुख मांडविया ने ट्वीट कर बताया कि 3 जनवरी से अब तक 15.18 आयु वर्ग के 3.5 करोड़ से अधिक बच्चों को कोविड-19 वैक्सीन की पहली डोज़ लगा दी गई है।  वहीं देश में टीकाकरण अभियान का एक वर्ष पूरा होने के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि इसने वैश्विक महामारी के खिलाफ लड़ाई को बेहद मजबूत बनाया और इसके चलते ही लो

उत्तराखंडः भागीरथी नदी के किनारे अधजले शवों को नोचते नजर आए कुत्ते

उत्तराखंड के उत्तरकाशी में भागीरथी नदी किनारे स्थित केदारघाट के पास अधजले शव को कुत्तों द्वारा नोचने-खसोटने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। सामाजिक संगठनों से जुड़े लोगों ने वीडियो पर सवाल उठाते हुए और यहां शवों के पूरे विधि-विधान के साथ अंतिम संस्कार नहीं होने का आरोप लगाया है। लोगों का कहना है कि प्रशासन की अनदेखी से गंगा अपने मायके में ही मैली हो रही है। उत्तरकाशी जिला मुख्यालय स्थित मोक्ष घाट(केदारघाट) शवों के अंतिम संस्कार का प्रमुख घाट है। जिसका एक वीडियो इन दिनों सोशल मीडिया में तेजी से वायरल हो रहा है। वीडियो में कुछ कुत्ते अधजले शव के अंगों को नोचते-खसोटते दिख रहे हैं। इस वीडियो के सामने आने के बाद यहां नगर पालिका व जिला प्रशासन पर भी सवाल उठ रहे हैं। गंगा विचार मंच के प्रदेश संयोजक लोकेंद्र बिष्ट का कहना है कि ये पहली बार नहीं है, जब ऐसी घटना सामने आई है।
ANI @ANI Uttarakhand | Residents claim that dogs are eating half-burnt COVID bodies at Kedar Ghat, Uttarkashi. After receiving complaints from locals, we have assigned a person at Kedar Ghat for cremation of half-burnt bodies: Municipality president Ramesh Semwal जल्दबाजी में पूरी तरह से चिता नहीं जलने देते लोग कई दफा लोग जल्दबाजी में शव का अंतिम संस्कार कर उसे नदी में धकेल देते हैं। जिसके चलते इस तरह की अमानवीय घटना सामने आती है। उन्होंने जिला प्रशासन से केदार घाट में होने वाले अंतिम संस्कार की निगरानी के साथ सफाई व्यवस्था बनाने की मांग की। इसके साथ ही विद्युत शव दाह गृह की भी व्यवस्था करने की मांग की। इधर, एसडीएम देवेंद्र नेगी ने बताया कि यह घटना का एक सप्ताह पूर्व की है। जिसके बाद नगर पालिका की ओर से घाट की सफाई कर निगरानी रखी जा रही है। वहीं, नगर पालिका के अध्यक्ष रमेश सेमवाल का कहना है कि घाट पर कुत्तों द्वारा शवों को नोंचने के मामले की शिकायत आई थी। घाट पर एक व्यक्ति निगरानी के लिए तैनात कर दिया गया है। 

टिप्पणियाँ

Popular Post