सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

त्रिपुरा हिंसा : सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और राज्‍य सरकार को दो हफ्ते के भीतर जवाब देने के दिए निर्देश

    नई दिल्‍ली /   सुप्रीम कोर्ट त्रिपुरा में हाल ही में हुई सांप्रदायिक हिंसा के मामले में राज्य पुलिस की कथित मिली-भगत और निष्क्रियता के आरोपों की स्वतंत्र जांच के लिए दाखिल याचिका पर सुनवाई के लिए सहमत हो गया है। सुप्रीम कोर्ट ने इस याचिका पर सोमवार को केंद्र और राज्य सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। न्यायमूर्ति डीवाई चन्द्रचूड़ और न्यायमूर्ति एएस बोपन्ना की पीठ ने सरकारों को दो हफ्ते के भीतर जवाब देने का निर्देश दिया है।  अधिवक्ता ई. हाशमी की ओर से दाखिल याचिका पर अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने पैरवी की। उन्‍होंने सर्वोच्‍च अदालत से कहा कि वे हालिया साम्प्रदायिक दंगों की स्वतंत्र जांच चाहते हैं। इस मामले में अब दो हफ्ते बाद सुनवाई होगी। भूषण ने कहा कि सर्वोच्‍च अदालत के समक्ष त्रिपुरा के कई मामले लंबित हैं। पत्रकारों पर यूएपीए के आरोप लगाए गए हैं। यही नहीं कुछ वकीलों को नोटिस भेजा गया है। पुलिस ने हिंसा के मामले में कोई एफआइआर दर्ज नहीं की है। ऐसे में अदालत की निगरानी में इसकी जांच एक स्वतंत्र समिति से कराई जानी चाहिए। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने याचिका की प्रति केंद्रीय एजेंसी और

उत्तराखंड- 18 से 44 आयु वर्ग के व्यक्तियों का वैक्सीनेशन शुरू, मुख्‍यमंत्री ने किया शुभारंभ

 


  देहरादून /  कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए उत्तराखंड में 18 से 44 आयु वर्ग के व्यक्तियों का वैक्सीनेशन सोमवार से शुरू हो गया। वैक्सीनेशन के पहले दिन प्रदेश के सभी 13 जिलों में बनाए गए कुल 75 केंद्रों पर 16100 व्यक्तियों को वैक्सीन लगई जाएगी। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने देहरादून में वैक्सीनेशन की शुरुआत करी। देहरादून के राधा स्वामी सत्संग भवन मे कृष्णा गैरोला का पहला टीका लगा।कोरोना महामारी के खिलाफ देशव्यापी टीकाकरण महा अभियान में 18 से 45 वर्ष के आयु वर्ग के लिए टीकाकरण की व्यवस्था शुरू की गई है। सोमवार को ऋषिकेश में देहरादून मार्ग स्थित राजकीय पूर्व माध्यमिक विद्यालय में 18 से 45 वर्ष आयु वर्ग के लिए टीकाकरण की व्यवस्था की गई थी। प्रातः आठ बजे से ही यहां टीकाकरण के लिए युवाओं की आमद शुरू हो गई थी। 18 से 45 वर्ष आयु वर्ग के लिए के अलावा टीकाकरण का शेड्यूल स्लॉट बुक कराना अनिवार्य किया गया था।इस केंद्र पर पहले दिन सिर्फ 300 व्यक्तियों को ही टीकाकरण के लिए पंजीयन किया गया। सोमवार को टीकाकरण के लिए यहां पहुंचे कई युवा ऐसे जिन्होंने टीकाकरण का शेड्यूल स्लॉट ही बुक नहीं किया था। वही पंजीकरण के तहत मिले स्लॉट की व्यवस्था को भी स्थानीय स्तर पर अचानक बदल दिया गया। टीकाकरण केंद्र की ओर से पंजीकृत युवाओं को टीकाकरण के लिए प्रतियां आवंटित की गई। जिस कारण व्यवस्था बनाने में अधिक समय लग गया। यहां साढ़े दस बजे तक वैक्सीनशन शुरू नहीं हो पाया था।

 

Sources:Agency News


 

टिप्पणियाँ

Popular Post