कोविड वैक्सीन का संकट गहराया, चमोली, देहरादून, नैनीताल, टिहरी जिले में खत्म हुआ स्टॉक

  


कोरोना संक्रमण बढ़ने के साथ ही प्रदेश में कोविड वैक्सीन का संकट खड़ा हो गया है। चार जिलों में वैक्सीन का स्टॉक शुक्रवार को खत्म हो गया है। जबकि नौ जिलों में शनिवार के लिए वैक्सीन डोज बची हुई है। स्वास्थ्य महकमा शनिवार को टीकाकरण को लेकर स्थिति मैनेज करने में जुटा रहा। कई जगह टीकाकरण बंद हो गया है। दून अस्पताल में नई ओपीडी बिल्डिंग व एमएस आवास में टीकाकरण किया जा रहा है। हर दिन करीब 300 लोगों का टीकाकरण किया जाता है। पर शनिवार को एमएस आवास पर टीकाकरण बंद है। सीएमओ आफिस से सिर्फ 90 डोज ही अस्पताल को मिली हैं। सरकार ने केंद्र से 10.57 लाख वैक्सीन डोज की मांग की है। प्रदेश में सिर्फ 1.49 लाख वैक्सीन डोज का स्टॉक बचा हुआ है। जो शनिवार तक खत्म हो जाएगा। वैक्सीन न होने पर रविवार को टीकाकरण कार्य बंद करना पड़ सकता है। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए प्रदेश में इसी साल 16 जनवरी से कोविड टीकाकरण शुरू किया गया था। अब तक स्वास्थ्य कर्मचारियों, फ्रंट लाइन वर्करों और 45 से 60 साल से अधिक आयु वर्ग में 10.57 लाख से ज्यादा लोगों को वैक्सीन की पहली डोज लगाई जा चुकी है। जबकि 74233 स्वास्थ्य कर्मियों व 61812 फ्रंट लाइन वर्करों को वैक्सीन की दूसरी डोज लगाकर टीकाकरण पूरा किया गया। कोरोना संक्रमण बढ़ने से लोगों में वैक्सीन लगवाने के लिए खासा उत्साह दिखाई दे रहा है। लेकिन केंद्र से वैक्सीन की खेप न मिलने से उत्तराखंड में लोगों को टीके लगाने का संकट खड़ा हो गया है।देहरादून, चमोली, नैनीताल, टिहरी जिले में शुक्रवार को वैक्सीन का स्टॉक खत्म हो गया है। वहीं, अन्य जिलों में शनिवार तक के लिए वैक्सीन डोज का स्टॉक है। स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक केंद्र से अब तक लगभग 13.23 लाख वैक्सीन डोज राज्य को उपलब्ध कराई गई थी। इसमें अब तक 1002711 लोगों को वैक्सीन की पहली और 1.72 लाख स्वास्थ्य कर्मी और फ्रंट लाइन वर्करों को दूसरी डोज लगवाई गई है। प्रदेश में कोविड टीकाकरण में तेजी आने से सरकार ने केंद्र को 10.57 लाख वैक्सीन डोज की मांग भेजी है। केंद्र के आदेश के बाद ही राज्य को करनाल स्टोर से वैक्सीन उपलब्ध होगीकेंद्र से वैक्सीन की डोज मिलने का इंतजार किया जा रहा है। जिलों के पास 1.49 लाख वैक्सीन डोज का स्टॉक है। इससे शनिवार तक ही टीकाकरण चलाया जा सकता है। केंद्र से जल्द ही वैक्सीन उपलब्ध नहीं होती है तो रविवार को कई टीकाकरण बूथों पर वैक्सीन लगाने का कार्य प्रभावित हो सकता है।

- डॉ. सरोज नैथानी, निदेशक, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन

प्रदेश में अब तक लगवाई गई वैक्सीन की डोज

श्रेणी               -      पहली डोज         -      दूसरी डोज

45 से 60 आयु वर्ग -     845051        -     36294

स्वास्थ्य कर्मी       -      109297       -       74233

फ्रंट लाइन वर्कर     -     103116        -        61812