एक मई से शुरूहोने वाला महावैक्सीनेशन अभियान वैक्सीन नहीं मिलने के कारण टला

  


 प्रदेश में एक मई से शुरू हो रहा महावैक्सीनेशन अभियान स्वास्थ्य विभाग ने कुछ दिनों के लिए टाल दिया है। स्वास्थ्य महानिदेशक डॉ. तृप्ति बहुगुणा ने बताया कि प्रदेश को वैक्सीन नहीं मिलने के कारण अभियान शुरू नहीं  किया जा रहा है। लेकिन पर्याप्त कोटा मिलने के बाद जल्द ही अभियान शुरू किया जाएगा।


बता दें कि विभाग ने शनिवार से शुरू हो रहे अभियान की तैयारियां कर ली थी। लेकिन विभाग को पर्याप्त मात्रा में वैक्सीन नहीं मिली। उच्च शिक्षा राज्यमंत्री डॉ.धन सिंह रावत का कहना था कि अभियान में एनसीसी और एनएसएस के छात्रों की ओर से सहयोग किया जाएगा। उच्च शिक्षा विभाग के अधिकारियों की वर्चुअल बैठक में उन्होंने कहा था कि जरूरत पड़ने पर इसके लिए विश्वविद्यालयों एवं महाविद्यालयों में स्थान भी उपलब्ध कराया जाएगा।

रुड़की: ऑक्सीजन खत्म होते-होते अटकी 50 मरीजों की सांसें, अस्पताल प्रबंधन के हाथ पांव फूले

उच्च शिक्षा राज्यमंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत की अध्यक्षता में पूर्व में हुई कैबिनेट बैठक में राज्य के 18 से 45 वर्ष के सभी लोगों को निशुल्क कोविड वैक्सीन लगाने का निर्णय लिया गया है।

#Ladengecoronase: कोरोना मरीजों के लिए वरदान बनी मित्र पुलिस की मुहिम, अब तक 45 लोगों की बचाई जान

सरकार की ओर से इसके लिए रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। उन्होंने कहा कि अभियान को सफल बनाने के लिए राजकीय एवं निजी विश्वविद्यालयों, राजकीय महाविद्यालयों एवं निजी शिक्षण संस्थानों में वैक्सीनेशन केंद्रों के लिए जगह उपलब्ध कराई जाएगी। वहीं, एनसीसी कैडेट्स एवं एनएसएस स्वयं सेवकों की नियमानुसार सेवा लेने की अनुमति जिला प्रशासान व स्वास्थ्य विभाग को दी गई है।

उच्च शिक्षा राज्यमंत्री ने कहा कि जिन एनसीसी कैडेट्स एवं एनएसएस स्वयं सेवकों से सहयोग लिया जाएगा, पहले उन्हें वैक्सीन लगाई जाएगी। उनके अभिभावकों से सहमति लेने के बाद ही उनसे इस काम में सहयोग लिया जाएगा।उन्होंने कहा कि प्रदेश के सभी 106 राजकीय महाविद्यालयों एवं सभी विश्वविद्यालयों को 4 जी नेटवर्क सेवा से जोड़ दिया गया है, ताकि छात्र-छात्राएं ऑनलाइन पढ़ाई कर सकें। बैठक में कुलपति प्रो.पीपी ध्यानी, प्रो.एनएस भंडारी, प्रो.एनके जोशी, प्रो.सुरेखा डंगवाल, निदेशक उच्च शिक्षा डॉ.कुमकुम रौतेला, महानिदेशक स्वास्थ्य डॉ.प्रीति बहुगुणा, रुसा प्रभारी डॉ.एएस उनियाल, सहायक निदेशक डॉ.डीसी गोस्वामी, डॉ.दीपक पांडे आदि शामिल रहे।

मेडिकल क्षेत्र के अनुभवी लोग करें आवेदन

कोरोना महामारी के दौरान उत्तराखंड के सभी जिलों में सरकारी अस्पतालों और मेडिकल कॉलेज अस्पतालों में इस क्षेत्र में अनुभव रखने वाले या सेवानिवृत्त हुए कर्मचारियों या स्वास्थ्य कर्मियों से उत्तराखंड पूर्व सैनिक निगम लिमिटेड (उपनल) ने छह से 11 महीने के लिए नियुक्ति के आवेदन मांगे हैं।

इसमें मेडिकल अफसर, नर्सिंग स्टाफ, लैब टेक्नीशियन, वार्ड ब्वाय, वार्ड आया और सफाईकर्मी आदि शामिल हैं। वे उपनल के जिला या अन्य संबंधित कार्यालय में संपर्क कर आवेदन कर सकते हैं। यह जानकारी उपनल के प्रवक्ता ने दी है।


Sources:AmarUjala