सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

सरकार से बातचीत के लिए संयुक्त किसान मोर्चा ने बनाई 5 लोगों की कमेटी, टिकैत बोले- हम कहीं नहीं जा रहे

  कृषि कानूनों के निरस्त होने के बाद आज संयुक्त किसान मोर्चा के अहम बैठक हुई। इस बैठक में आंदोलन संबंधित विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की गई। इसके साथ ही 5 लोगों की कमेटी बनाई गई है जो सरकार से एमएसपी और किसानों से केस वापसी जैसे मुद्दों पर बातचीत करेगी। अब संयुक्त किसान मोर्चा की अगली बैठक 7 दिसंबर को होगी। बैठक के बाद राकेश टिकैत ने बताया कि 5 लोगों की कमेटी बनाई है। यह कमेटी सरकार से सभी मामलों पर बातचीत करेगी। अगली मीटिंग संयुक्त किसान मोर्चा की यहीं पर 7 तारीख को 11-12 बजे होगी। इस 5 लोगों की कमेटी में युद्धवीर सिंह, शिवकुमार कक्का, बलबीर राजेवाल, अशोक धवाले और गुरनाम सिंह चढुनी के नाम पर सहमति बनी है। बताया जा रहा है कि यह संयुक्त किसान मोर्चा की यह हेड कमेटी होगी जो किसानों से जुड़े मुद्दे पर महत्वपूर्ण फैसले लेगी। हालांकि बताया यह भी जा रहा है कि अब तक सरकार की ओर से आधिकारिक तौर पर बातचीत के लिए किसानों को नहीं बुलाया गया है। लेकिन जब भी सरकार की ओर से किसानों को बातचीत के लिए बुलाया जाएगा, यह 5 लोग ही जाएंगे। राकेश टिकैत की ओर से फिर दोहराया गया कि आंदोलन फिलहाल खत्म नहीं होगा। उन

बिना परीक्षा दिए पंजाब में 5वीं, 8वीं, 10वीं के छात्रों को किया जाएगा प्रोन्नत

  


 चंडीगढ़ /  कोविड मामलों की संख्या में तेजी से वृद्धि के बीच पंजाब सरकार ने बृहस्पतिवार को घोषणा की कि पांचवीं, आठवीं और दसवीं कक्षाओं के छात्रों को बिना परीक्षा के ही अगली कक्षा में प्रोन्नत किया जाएगा। पंजाब राज्य परीक्षा बोर्ड 12वीं कक्षा की परीक्षाओं पर कोई निर्णय बाद में स्थिति के आधार पर करेगा। फिलहाल यह परीक्षा स्थगित कर दी गयी है। एक सरकारी बयान के अनुसार, पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह की अध्यक्षता में कोविड​​-19 समीक्षा बैठक के दौरान यह निर्णय लिया गया। राज्य सरकार की यह घोषणा केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा आयोजित दसवीं कक्षा की परीक्षाओं को रद्द किए जाने और 12वीं की परीक्षाओं को स्थगित करने के ऐलान के एक दिन बाद हुई। पांचवीं कक्षा के छात्रों के लिए पांच में से चार विषयों की परीक्षाएं पहले ही आयोजित की जा चुकी हैं, इसलिए पंजाब राज्य शिक्षा बोर्ड चार विषयों में प्राप्त अंकों के आधार पर परिणाम घोषित कर सकता है।

मुख्यमंत्री ने शिक्षा विभाग को निर्देश दिया कि आठवीं और दसवीं कक्षाओं के परिणाम प्री-बोर्ड परीक्षाओं या स्कूलों के आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर घोषित किए जा सकते हैं। सिंह ने पिछले दिनों केंद्रीय शिक्षा मंत्री को परीक्षा के मुद्दे पर पत्र लिखा था। सिंह ने भी 12वीं कक्षा की सीबीएसई परीक्षा को स्थगित करने और 10वीं की परीक्षा रद्द करने के केंद्र के फैसले पर संतोष जताया। बैठक में चिकित्सा शिक्षा मंत्री ओपी सोनी, शिक्षा मंत्री विजय इंदर सिंगला, मुख्य सचिव विनी महाजन और पुलिस महानिदेशक दिनकर गुप्ता भी उपस्थित थे। पंजाब शिक्षा बोर्ड ने पिछले महीने 10वीं और 12वीं की परीक्षाओं को करीब एक महीने के लिए टाल दिया था।

Sources:prabhashakshi News

टिप्पणियाँ

Popular Post

चित्र

बदायूं: बिसौली आरक्षित सीट को लेकर राजनीतिक दलों में गहन मंथन, भाजपा से सीट छीनने की फिराक में सपा आशुतोष मौर्य पर फिर खेल सकती है दांव