दिल्ली में कोरोना बेकाबू होने से उत्तराखंड के पर्यटन कारोबार पर असर, कॉर्बेट में घटे सैलानी


दिल्ली में कोरोना संक्रमण बढ़ने का असर अब कॉर्बेट नेशनल पार्क में भी देखने को मिल रहा है। दिल्ली के पर्यटक बीते दस दिनों से लगातार डे विजिट के पांच से दस परमिट रद करा रहे हैं। यही नहीं, होटल-रिजाट्र्स पर भी इसका असर आने लगा है, जहां 30 से 40 बुकिंग रद हो रही हैं।


कॉर्बेट पार्क के बिजरानी, झिरना, ढेला, गर्जिया और ढिकाला जोन में डे विजिट-नाइट स्टे कराई जा रही है। ढिकाला में जिप्सी सफारी के बजाए कैंटर सफारी कराई जाती है।


पार्क अफसरों के मुताबिक दिल्ली में कोरोना संक्रमण बढ़ने से वहां मिनी लॉकडाउन लगाया गया है। कॉर्बेट में सर्वाधिक पर्यटक दिल्ली से ही आते हैं, ऐसे में डे विजिट के रोज पांच से 10 परमिट रद हो रहे हैं।


दस दिनों में 50 से अधिक परमिट निरस्त कराए गए हैं। पार्क निदेशक राहुल ने बताया कि कोरोना काल में भी कॉर्बेट में सैलानी आ रहे हैं। हालांकि दिल्ली में केस बढ़ने से थोड़ा असर जरूर है। 



उत्तराखंड  बॉर्डर पर सख्ती से डर रहे लोग
कोरोना संक्रमण बढ़ने से बार्डर में सख्ती है। इससे दिल्ली और दूसरी जगहों से आने वाले लोग संक्रमण को लेकर सहमे हैं। दिल्ली जाने वाले रास्तों पर किसान आंदोलन की वजह से भी लोग कॉर्बेट नहीं आ रहे हैं। जाम और बार्डर पर रोक-टोक के चलते लोग घरों में ही रहना पसंद कर रहे हैं।


रिजॉट्र्स और होटलों पर भी मार
रिजॉट्र्स एसोसिएशन अध्यक्ष हरिमान सिंह ने बताया कि 30 से 40 लोग बुकिंग रद्द करा चुके हैं। इनमें अधिकांश दिल्ली से हैं। कारोबारियों को लाखों का नुकसान हुआ है। ऐसा ही रहा तो नए साल पर कारोबारियों की परेशानी और बढ़ सकती है।  


 


Sources:HindustanSamachar