सीबीआई दाखिल कर सकती है स्टेटस रिपोर्ट,हाथरस केस की हाईकोर्ट में सुनवाई आज


इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ खंडपीठ में आज हाथरस केस की सुनवाई होनी है। इसी दौरान सीबीआई कोर्ट में अपनी जांच की स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करेगी, जिस पर सबकी निगाहें हैं। हाल ही में सीबीआई ने चारों आरोपियों का पॉलीग्राफ टेस्ट भी कराया है। इससे पहले 2 नवंबर को जस्टिस पंकज मित्तल और जस्टिस राजन रॉय की डिवीजन बेंच ने पीड़ित परिवार को सुना था और 5 नवंबर को अपने आदेश में सीबीआई से पूछा था कि मामले की विवेचना कितने समय में पूरी होगी? साथ ही अगली तारीख मतलब आज स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करने का आदेश दिया था।


लखनऊ खंडपीठ की डिवीजन बेंच सुप्रीम कोर्ट के 27 अक्टूबर के आदेश के अनुपालन में विवेचना की मॉनीटरिंग के लिए व दूसरा मृतका के अंतिम संस्कार के मुद्दे पर सुनवाई कर रही है। पिछली सुनवाई पर कोर्ट ने हाथरस के डीएम प्रवीण कुमार पर भी टिप्पणी की थी। कोर्ट ने राज्य सरकार से पूछा था कि विवेचना के दौरान क्या उन्हें हाथरस में बनाए रखना निष्पक्ष और उचित है?


कोर्ट ने कहा कि हमारे समक्ष भी जो प्रक्रिया चल रही है, अवैध अंतिम संस्कार इत्यादि से संबंधित उससे भी वह जुड़े हुए हैं। वहीं, एडीजी लॉ एंड ऑर्डर पर तल्ख टिप्पणी करते हुए कहा था कि क्या आपकी बेटी होती तो भी रात में ही अंतिम संस्कार कर देते? इस पर सभी अफसरों ने चुप्पी साध ली थी।


ऐसे में क्या यह उचित नहीं होगा कि सिर्फ निष्पक्षता व पारदर्शिता के लिए, इन प्रक्रियाओं के दौरान उन्हें कहीं और शिफ्ट कर दिया जाए? इस पर राज्य सरकार के अधिवक्ता ने आज होने वाली सुनवाई पर सरकार का रुख स्पष्ट करने की बात कही थी। हालांकि अभी तक जिलाधिकारी हाथरस पर कोई एक्शन नहीं लिया गया है।


चारों आरोपी अभी गुजरात के साबरमती जेल में
हाथरस केस के चारों आरोपियों को सोमवार को अलीगढ़ से गुजरात के गांधीनगर स्थित फॉरेंसिक साइंस लेबोरेटरी (FSL) ले जाया गया है। यहां सभी का लाई डिटेक्शन टेस्ट और नार्को टेस्ट होगा। सूत्रों के अनुसार, आरोपियों का नार्को टेस्ट हो चुका है। जिसकी रिपोर्ट CBI को मिल चुकी है। वहीं, लाई डिटेक्शन टेस्ट में करीब 8 दिन लगेंगे। इस दौरान आरोपी साबरमती जेल में रहेंगे।


ये है पूरा मामला
उत्तर प्रदेश के हाथरस जिले के चंदपा थाना क्षेत्र के एक गांव में बीते 14 सितंबर को एक युवती के साथ कथित रूप से सामूहिक दुष्कर्म किया गया था। पहले अलीगढ़ जिला अस्पताल में भर्ती होने के बाद युवती को जेएन मेडिकल कॉलेज रेफर किया गया। हालत बिगड़ने पर उसे दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल भेजा गया, जहां 29 सितंबर को युवती ने दम तोड़ दिया। इसके बाद प्रशासन ने जल्दबाजी में आधी रात को ही उसका अंतिम संस्कार करा दिया था।


Sources:Agency News