करतारपुर गलियारे को जल्द खोलने की उठी मांग


दिल्ली के कई सिख संगठनों के साथ-साथ नानक नाम लेवा संगत ने भी करतारपुर यात्रा को फिर से शुरू करने की मांग कर दी है। सिख समुदाय का कहना है कि सरकार ने पिछले 3 महीने में देश के अलग-अलग धार्मिक स्थलों को खोलने की इजाजत दे दी है लेकिन गुरुद्वारा श्री करतारपुर साहिब कॉरिडोर को अब भी नहीं खोला गया है।



 


कोरोना महामारी के कारण देश में कई दिनों तक लॉकडाउन रहा। इसके बाद चरणबद्ध तरीके से अनलॉक लागू किया गया। लॉकडाउन के दौरान धार्मिक स्थलों को भी बंद कर दिया गया था। हालांकि धीरे-धीरे इन धार्मिक स्थलों को खोला गया। लेकिन अभी भी ऐतिहासिक करतारपुर कॉरिडोर बंद है। अब इसी करतारपुर कॉरिडोर को खोलने की मांग की जा रही है। दरअसल, 9 नवंबर को ऐतिहासिक करतारपुर कॉरिडोर को बने हुए 1 साल हो जाएंगे। वही, 30 नवंबर को श्री गुरु नानक देव जी का 551वां प्रकाश पर्व भी आ रहा है। ऐसे में सिख समुदाय की ओर से लगातार करतारपुर कॉरिडोर खोले जाने की मांग हो रही है। फिलहाल करतारपुर कॉरिडोर को कोरोनावायरस के कारण भारत सरकार ने बंद कर रखा है।


दिल्ली के कई सिख संगठनों के साथ-साथ नानक नाम लेवा संगत ने भी करतारपुर यात्रा को फिर से शुरू करने की मांग कर दी है। सिख समुदाय का कहना है कि सरकार ने पिछले 3 महीने में देश के अलग-अलग धार्मिक स्थलों को खोलने की इजाजत दे दी है लेकिन गुरुद्वारा श्री करतारपुर साहिब कॉरिडोर को अब भी नहीं खोला गया है। इस बात को लेकर उन्होंने पीएम मोदी से अनुरोध भी किया है ताकि श्री गुरु नानक देव जी के 591 प्रकाश पर्व पर पाकिस्तान में श्री करतारपुर साहिब के दर्शन के इच्छुक के श्रद्धालु वहां जा सके। श्री गुरु तेग बहादुर पॉलिटेक्निक के एडमिनिस्ट्रेटर तरलोचन सिंह ढिल्लों ने कहा कि सिख समुदाय अब यह चाहता है कि करतारपुर कॉरिडोर को जल्द खोल दिया जाए। दूसरी ओर शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी जो पंजाब के साथ-साथ देश के अन्य राज्यों में गुरुद्वारों के मामलों का प्रबंधन करती है, उसने भी केंद्र सरकार से प्रकाश पर्व के अवसर पर गलियारे को खोलने की मांग कर दी है। 


उधर, पाकिस्तान के सिख गुरुद्वारा प्रबंधक समिति ने करतारपुर कॉरिडोर के उद्घाटन की पहली वर्षगांठ मनाने की घोषणा की है। कमेटी का यह भी कहना है कि भारत से श्रद्धालुओं को इस अवसर पर आमंत्रित करने की योजना थी पर गलियारे को कोरोनावायरस के मद्देनजर भारत की तरफ से फिलहाल नहीं खोला गया है जिसके चलते यह संभव नहीं है। हालांकि पाकिस्तान सरकार ने अक्टूबर के पहले सप्ताह में अपनी तरफ से करतारपुर गलियारे को फिर से खोल दिया था। करतारपुर गलियारा सिखों के संस्थापक गुरु नानक की अंतिम विश्राम स्थली गुरुद्वारा दरबार साहिब से डेरा बाबा नानक कस्बे को भारत के गुरुद्वारा दरबार साहिब से जोड़ता है। शिरोमणि अकाली दल (एसएडी) अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर उनसे करतारपुर गलियारे को फिर से खोलने के लिए भारतीय भूमि पत्तन प्राधिकरण को निर्देश देने का अनुरोध किया।


आपको बता दें कि करतारपुर कॉरिडोर को कोरोना के प्रकोप के बाद मार्च में बंद कर दिया गया था। इस गलियारा के जरिए भारतीय श्रद्धालु करतारपुर साहिब के लिए वीजा मुक्त यात्रा करते हैं। 551वां प्रकाश पर्व के मौके पर पहले सिख गुरु के जन्म स्थान ननकाना साहिब में आयोजित किए जा रहे कार्यों में भाग लेने के लिए पाकिस्तान सरकार से भारतीय तीर्थ यात्रियों को 3000 वीजा जारी करने का फैसला लिया गया है। हर साल प्रकाश पर्व मनाने के लिए भारत से 3000 लोग पाकिस्तान जाते हैं। हालांकि इस बार पाकिस्तान में कोरोना महामारी को ध्यान में रखते हुए भारतीय तीर्थ यात्रियों को सिर्फ 5 दिन का वीजा देने का ऐलान किया है। भारत ने कहा है कि करतारपुर गलियारे को फिर से खोले जाने का फैसला कोविड-19 संबंधी प्रोटोकॉल और पाबंदियों में ढील के तहत किया जाएगा।


Sorces:Agency News