सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

पूर्व मुख्‍यमंत्री त्रिवेंद सिंह रावत नहीं लड़ेंगे चुनाव

 देहरादून : बहुत बड़ी खबर निकल कर सामने आ रही है कि उत्‍तराखंड के पूर्व मुख्‍यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत इस बार विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे। जानकारी के मुताबिक उन्‍होंने भाजपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष जेपी नड्डा को पत्र लिखकर यह इच्‍छा जाहिर की है। उन्‍होंने कहा कि धामी के नेतृत्‍व में भाजपा की सरकार बनाने के लिए काम करना चाहता हूं।  जेपी नडडा को लिखे पत्र में उन्‍होंने मुख्‍यमंत्री के रूप में कार्य करने का अवसर देने के लिए आभार भी व्‍य‍क्‍त किया है। साथ ही ये भी कहा है कि प्रदेश में युवा नेतृत्‍व वाली सरकार अच्‍छा काम कर रही है। उन्‍होंने कहा, बदली हुई राजनीतिक परिस्थितियों में मुझे चुनाव नहीं लड़ना चाहिए। इसलिए मेरा अनुरोध स्‍वीकार कर लिया जाए। आपको बता दें कि त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पत्र में लिखा कि मान्‍यवार पार्टी ने मुझे देवभूमि उत्‍तराखंड के मुख्‍यमंत्री के रूप में सेवा करने का अवसर दिया यह मेरा परम सौभाग्‍य था। मैंने भी कोशिश की कि पवित्रता के साथ राज्‍य वासियों की एकभाव से सेवा करुं व पार्टी के संतुलित विकास की अवधारणा को पुष्‍ट करूं। प्रधानमंत्री जी का भरपूर सहयोग व आशीर्वाद मु

भीषण जंग की तैयारी में है अमेरिका,चीन के खिलाफ बड़ी रणनीति का किया आह्वान अपने रक्षा बजट में की भारी.भरकम बढ़ोतरी



 दुनिया की सबसे सुपर पावर अमेरिका जल, थल और वायु में सबसे खतरनाक हथियारों से सजी सेना है। दुनिया के सबसे घातक हथियारों से लैस अमेरिका एटम बम का भी इस्तेमाल कर चुका है। लेकिन अब अमेरिका अपनी इस ताकत को और ज्यादा बढ़ाने की तैयारी कर रहा है। इसलिए अमेरिका ने अपने रक्षा बजट को और ज्यादा बढ़ाने का ऐलान किया है। अमेरिका के राष्ट्रपति ने राष्ट्रीय रक्षा प्राधिकरण अधिनियम (एनडीएए) पर हस्ताक्षर कर उसे कानून की शक्ल दे दी। इस कानून के तहत रक्षा मदों पर खर्च के लिए 768.2 अरब डॉलर अधिकृत किए गए हैं, जिसमें 2022 के लिए रक्षा सेवाओं के सदस्यों के वेतन में 2.7 प्रतिशत बढ़ोतरी भी शामिल है। दुनिया में हथियारों की दौड़ शुरू हो चुकी है। अमेरिका ने अपने रक्षा बजट में बड़ी बढ़ोतरी की है। 2022 में अमेरिका का रक्षा बजट 768.2 अरब डॉलर रखा गया। दुनिया में सिर्फ 17 देश हैं जिनकी जीडीपी इस रकम से ज्यादा है। ये बढ़ोतरी उस वक्त में हुई जब दुनिया की दो महाशक्तियां रूस और चीन से अमेरिका का तनाव बढ़ रहा है। अमेरिका ने अपने रक्षा बजट में चीन के खिलाफ विशेष रणनीति बनाने की तैयारी की है। इसके लिए अमेरिका द्वितीय विश्व युद्ध में इस्तेमाल किए गए अपने नेवल बेस को और आधुनिक करने जा रहा है। 

बाइडेन ने क्यों बढ़ाया रक्षा बजट

अमेरिका कभी यूक्रेन के लिए रूस से तो कभी ताइवान के लिए चीन से भिड़ने को तैयार रहता है। ईरान के खिलाफ भी अमेरिका सख्त है। अफगानिस्तान से भले ही अमेरिकी सैनिकों की विदाई हो गई हो लेकिन फिर भी इतने मोर्चों पर एक साथ नजर रखने के लिए अमेरिका अपने रक्षा बजट से कोई समझौता नहीं कर सकता। 

चीन के दादागिरी पर लगाम 

रूस से वैसे तो अमेरिका का तनाव दशकों पुराना है, लेकिन वर्तमान दौर में अमेरिका अपने लिए रूस से बड़ा खतरा चीन को मानता है। चीन के खिलाफ एक बड़ी रणनीति बनाने का आह्वाहन किया।  बजट में चीन-रूस से प्रतिस्पर्धा को फोकस किया गया है। गुआम और वेक नेवल बेस से चीन व उत्तर कोरिया पर नजर रखा जाएगा। हिंद प्रशांत क्षेत्र में अभियान चलाने के लिए 7.1 अरब डॉलर का प्रावधान किया गया है। यह वही इलाका है जहां पर चीन लगातार दादागिरी दिखा रहा है। 


टिप्पणियाँ

Popular Post