सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

सरकार से बातचीत के लिए संयुक्त किसान मोर्चा ने बनाई 5 लोगों की कमेटी, टिकैत बोले- हम कहीं नहीं जा रहे

  कृषि कानूनों के निरस्त होने के बाद आज संयुक्त किसान मोर्चा के अहम बैठक हुई। इस बैठक में आंदोलन संबंधित विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की गई। इसके साथ ही 5 लोगों की कमेटी बनाई गई है जो सरकार से एमएसपी और किसानों से केस वापसी जैसे मुद्दों पर बातचीत करेगी। अब संयुक्त किसान मोर्चा की अगली बैठक 7 दिसंबर को होगी। बैठक के बाद राकेश टिकैत ने बताया कि 5 लोगों की कमेटी बनाई है। यह कमेटी सरकार से सभी मामलों पर बातचीत करेगी। अगली मीटिंग संयुक्त किसान मोर्चा की यहीं पर 7 तारीख को 11-12 बजे होगी। इस 5 लोगों की कमेटी में युद्धवीर सिंह, शिवकुमार कक्का, बलबीर राजेवाल, अशोक धवाले और गुरनाम सिंह चढुनी के नाम पर सहमति बनी है। बताया जा रहा है कि यह संयुक्त किसान मोर्चा की यह हेड कमेटी होगी जो किसानों से जुड़े मुद्दे पर महत्वपूर्ण फैसले लेगी। हालांकि बताया यह भी जा रहा है कि अब तक सरकार की ओर से आधिकारिक तौर पर बातचीत के लिए किसानों को नहीं बुलाया गया है। लेकिन जब भी सरकार की ओर से किसानों को बातचीत के लिए बुलाया जाएगा, यह 5 लोग ही जाएंगे। राकेश टिकैत की ओर से फिर दोहराया गया कि आंदोलन फिलहाल खत्म नहीं होगा। उन

शिक्षक नेता हत्याकांड में दो आरोपितों को मृत्युदंड और पांच को उम्रकैद



प्रतापगढ़ / प्राथमिक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष रहे शोभनाथ मिश्र की 14 जुलाई 2012 को घर में घुसकर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। शहर के अजीत नगर स्थित निवास पर इस सनसनीखेज घटना को अंजाम दिया गया था। इस हत्याकांड में दोषियों को सजा के लिए शिक्षकों ने लंबे समय तक बड़ा आंदोलन किया था। इस बहुचर्चित मुकदमे में बुधवार को अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश पंकज कुमार श्रीवास्तव ने अभियुक्त बनाए गए शिक्षक राजेश सिंह और नौशाद को मृत्युदंड जबकि पांच अन्य अभियुक्तों को उम्रकैद की सजा सुनाई है। इस मुकदमे में फैसले का परिवार के लोगों और शिक्षकों को लंबे समय से इंतजार था। साल 2012 जुलाई महीने की इस घटना ने प्रतापगढ़ समेत प्रयागराज मंडल के शिक्षकों और शिक्षक नेताओं को आक्रोशित कर दिया था। शिक्षकों ने कातिलों को कठोर सजा देने और जल्द गिरफ्तारी की मांग करते हुए कई दिन तक जुलूस निकाल कर धरना प्रदर्शन किया था। पुलिस ने एक के बाद एक सभी अभियुक्तों को गिरफ्तार कर जेल भेजा, और फिर उनके खिलाफ चार्जशीट दायर की। कई साल तक सुनवाई के बाद बुधवार को अभियुक्तो को सजा सुनाने की तिथि मुकर्रर किए जाने पर सब निर्णय का इंतजार कर रहे थे। दोपहर में फैसला आया तो शिक्षकों ने कातिलों को मृत्युदंड और उम्रकैद की सजा सुनाए जाने पर संतोष जाहिर किया है।

टिप्पणियाँ

Popular Post

चित्र

बदायूं: बिसौली आरक्षित सीट को लेकर राजनीतिक दलों में गहन मंथन, भाजपा से सीट छीनने की फिराक में सपा आशुतोष मौर्य पर फिर खेल सकती है दांव