सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

देहरादून : सीएम ने परेड ग्राउंड का लिया जायजा, पीएम दून जनसभा में 30 हजार करोड़ की योजनाओं की देंगे सौगात

    देहरादून /  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी चार दिसंबर को उत्तराखंड के दौरे पर रहेंगे। वे देहरादून में जनसभा को संबोधित करेंगे। पीएम मोदी के दौरे को लेकर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी तैयारियों का जायजा लेने परेड ग्राउंड पहुंचे। इस दौरान उन्होंने जिला प्रशासन को समय से सभी व्यवस्थाओं को पूरा करने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री धामी ने बताया कि प्रधानमंत्री मोदी अपने दौरे के दौरान 30 हजार करोड़ रुपये की योजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया जाएगा। इस दौरान कैबिनेट मंत्री डा. धन सिंह रावत, भाजपा संगठन महामंत्री अजय कुमार, प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक, आइजी इंटेलीजेंस संजय गुज्याल, जिलाधिकारी डा. आर राजेश कुमार, एसएसपी जन्मेयजय खंडूड़ी और अन्य विभागों के अधिकारी मौजूद रहे। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की प्रस्तावित जनसभा को लेकर जिला प्रशासन हाई अलर्ट मोड में है। शनिवार को जिलाधिकारी डा. आर राजेश कुमार, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जन्मेजय खंडूड़ी समेत तमाम अधिकारियों ने परेड ग्राउंड का सघन निरीक्षण किया है। प्रशासन की मशीनरी दिनभर यह तय करने में जुटी रही कि परेड ग्राउंड को जनसभा के लिए किस तरह तैयार करना ह

उत्तराखंड: बदरीनाथ हाईवे बंद, रोते-बिलखते जोशीमठ से वापस लौटे तीर्थयात्री, चारधाम यात्रा बहाल

 

  


भारी बारिश के बीच रुकी हुई चारधाम यात्रा फिर से सुचारू हो गई है। मौसम सामान्य होते ही यात्रा ने रफ्तार पकड़ ली है। बुधवार से केदारनाथ धाम यात्रा भी शुरू हो गई है। हालांकि बदरीनाथ हाईवे बंद होने के कारण फिलहाल बदरीनाथ यात्रा शुरू नहीं हो सकी है। यमुनोत्री-गंगोत्री धाम यात्रा मंगलवार से शुरू हो चुकी है। खराब मौसम के चलते चारधाम यात्रा रोक दी गई थी। तीन-चार दिन से जोशीमठ और पीपलकोटी में रुके तीर्थयात्री बुधवार को भी बदरीनाथ हाईवे न खुलने पर वापस लौट गए। कई महिला तीर्थयात्री रोते-बिलखते लौटे।देवस्थानम बोर्ड से मिली जानकारी के मुताबिक बुधवार को केदारनाथ धाम के लिए एक हजार यात्री सोनप्रयाग और लिंचोली से रवाना हुए हैं। यमुनोत्री धाम की यात्रा कल से शुरू हो चुकी है। कल से अभी तक ढाई हजार से अधिक तीर्थयात्री धाम पहुंचे हैं।हाईवे बंद होने की वजह से बदरीनाथ धाम की यात्रा शुरू नहीं हुई है। तीर्थ यात्रियों को जोशीमठ और पीपलकोटी पर रोका गया है। हाईवे टंगड़ी, बेनाकुली, लामबगड़ आदि स्थानों पर मलबा आने से अवरुद्ध है। मार्ग खुलने में कुछ समय लगने की संभावना है। मार्ग खुलने पर तीर्थयात्रियों को बदरीनाथ धाम भेजा जाएगा।गंगोत्री धाम की यात्रा भी मंगलवार से शुरू हो गई है। कल शाम सुक्खी टॉप में जिला प्रशासन ने बंद सड़क मार्ग बहाल किया था। जिसके बाद तीर्थयात्रियों ने राहत की सांस ली। उत्तराखंड चारधामों में कपाट खुलने से अभी तक दो लाख से अधिक तीर्थयात्री पहुंच चुके हैं।बदरीनाथ हाईवे 17 अक्तूबर को देर शाम आठ बजे भारी बारिश होने से कई जगहों पर बंद हो गया था, जिससे पुलिस प्रशासन की ओर से तीर्थयात्रियों को पांडुकेश्वर, बदरीनाथ, गोविंदघाट, पीपलकोटी में ही रोक लिया था।बुधवार को चार दिन बाद भी हाईवे के न खुलने से अधिकांश तीर्थयात्री वापस लौट गए हैं। लखनऊ की एक महिला तीर्थयात्री जोशीमठ में रोती-बिलखती रही। महिला ने बताया कि वह चार दिन से जोशीमठ में हैं। बदरीनाथ धाम का रास्ता बंद होने से उन्हें आगे नहीं जाने दिया गया, अब बिना बदरीनाथ धाम के दर्शन कर लौट रहे हैं।ऋषिकेश से 110 वाहनों से 2021 यात्री चारधाम को रवाना हुए हैं। कई लोग अपने प्राइवेट वाहनों से भी चारधाम को रवाना हुए हैं। राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की ओर से भारी बारिश की संभावना को लेकर यात्रियों को चारधाम यात्रा की यात्रा पर जाने से रोक दिया गया था।पुलिस ने कई वाहनों को भद्रकाली और तपोवन से लौटाया था। कई यात्रियों को धर्मशालाओं और रैन बसेरे में ठहराया गया था। इन यात्रियों में उत्तर प्रदेश, राजस्थान, मध्य प्रदेश, पंजाब के यात्री थे।मंगलवार को मौसम साफ होने पर यात्री चारधाम को रवाना हुए। एआरटीओ (प्रवर्तन) पंकज श्रीवास्तव ने बताया कि 110 वाहनों से 2021 यात्री चारधाम को रवाना हुए हैं। कुछ लोग अपने निजी वाहनों से भी चारधाम की यात्रा पर गए हैं।


टिप्पणियाँ

Popular Post