सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

नए वेरिएंट फैलने की आशंका : आश्रमों और गेस्ट हाउस में भी देना होगा अब कोरोना जांच का प्रमाणपत्र

  मथुरा / उत्तर प्रदेश के मथुरा जनपद में वृन्दावन शहर में दस विदेशी एवं एक देशी नागरिक के कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने सभी गेस्ट हाउसों एवं आश्रमों को कहा है कि वे अपने आने वाले हर देशी-विदेशी मेहमान का पूरा ब्योरा रखें और उनके पास कोरोना जांच का नेगेटिव प्रमाण पत्र होने के बाद ही उन्हें अपने यहां ठहराएं। गौरतलब है कि लंबे समय तक कोरोना वायरस का मामला नहीं आने के बाद बरती गई लापरवाही के बाद अब फिर से कोरोना संक्रमितों के मिलने का सिलसिला चल पड़ा है। वृन्दावन में पिछले सप्ताह से अब तक दस विदेशी एवं एक उड़ीसा की भारतीय नागरिक संक्रमित पाई जा चुकी है। तीन विदेशी जिला स्तर पर कोई सूचना दिए बिना यहां से लौट भी चुके हैं। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. रचना गुप्ता ने कहा है कि गेस्ट हाउस एवं आश्रम बाहर से आने वाले व्यक्तियों के रुकने से पूर्व उनके कोविड वैक्सीनेशन प्रमाणपत्र एवं कोविड-19 जांच रिपोर्ट प्राप्त कर ही उन्हें ठहराएं तथा ऐसा नहीं होने पर वे तत्काल स्वास्थ्य विभाग के नियंत्रण कक्ष को रिपोर्ट करें। उनके अनुसार नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। न

उत्तर प्रदेश : समाजवादी पार्टी में शामिल हुए 7 विधायक, लगा बसपा और भाजपा को बड़ा झटका

 


 लखनऊ /   उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले बहुजन समाज पार्टी (बसपा) और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को बड़ा झटका लगा है। आपको बता दें कि बसपा के 6 और भाजपा का एक विधायक समाजवादी पार्टी में शामिल हो गया। जिसमें विधायक  हरगोविंद भार्गव, असलम अली, हाकिम लाल बिंद, सुषमा पटेल, मुजतबा सिद्दकी, असलम राइनी और राकेश राठौर शामिल हैं।

जानकारी के मुताबिक भाजपा के राकेश राठौर सीतापुर से विधायक हैं और उन्होंने सपा प्रमुख अखिलेश यादव की मौजदूगी में पार्टी की सदस्यता ग्रहण की। लंबे समय से बसपा से निष्कासित चल रहे 6 विधायक अखिलेश यादव के संपर्क में थे और चुनाव से ठीक पहले उन्हें पार्टी में शामिल करा लिया गया।इस बीच अखिलेश यादव ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि अपने-अपने लक्ष्य के साथ बहुत लोग सपा में आना चाहते हैं। लेकिन समय आने पर उसके ऊपर से भी पर्दा उठेगा।

 उन्होंने कहा कि आने वाले चुनाव में भाजपा का सफाया होगा और ऐसे में भाजपा परिवार भागता परिवार ही दिखेगा।उन्होंने कहा कि कल मैं सुना कि भाजपा ने 2017 में जो संकल्प पत्र दिया था उसे 90 फीसदी पूरा कर दिया गया है और बचा हुआ 2 महीने में पूरा हो जाएगा। 

लेकिन मुझे लगता है कि भाजपा ने एक बार  2017 में संकल्प पत्र बनाया और उसे कूड़े में भेंक दिया और उसका एक भी पन्ना नहीं पलटा है। हालांकि यह दावा करते हैं कि पन्ना प्रभारी बहुत बनाते हैं।अखिलेश यादव ने पहले ही कहा था कि वो कई छोटी-छोटी पार्टियों और दमखम रखने वाले नेताओं को साथ जोड़कर चुनावी मैदान पर उतरेंगे। उन्होंने कुछ वक्त पहले ही मऊ में एक जनसभा से पहले सुभासपा के साथ गठबंधन कर सपा को मजबूती प्रदान की थी। 

टिप्पणियाँ

Popular Post

चित्र

बदायूं: बिसौली आरक्षित सीट को लेकर राजनीतिक दलों में गहन मंथन, भाजपा से सीट छीनने की फिराक में सपा आशुतोष मौर्य पर फिर खेल सकती है दांव