जेल प्रशासन करेगा तीसरी आंख से तिहाड़ जेल नंबर तीन की निगरानी , लगाए 600 से ज्यादा सीसीटीवी

 


  तिहाड़ जेल नंबर तीन में लगातार हो रही कैदियों के बीच चाकूबाजी की घटनाओं पर जेल प्रशासन अब तीसरी नजर से निगरानी रखेगा। जेल नंबर तीन के सभी बैरक आने-जाने के रास्ते, खानसामा और अन्य स्थानों पर करीब 600 से सीसीटीवी लगाए गए हैं। सीसीटीवी लगाने का सिलसिला गत माह अंकित गुर्जर की मौत के बाद से शुरू किया गया था।तीन नंबर जेल में बंद रहे पश्चिम उत्तर-प्रदेश के कुख्यात और सवा लाख के इनामी गैंगस्टर अंकित गुर्जर की मौत के बाद से इस जेल में कैदियों के बीच सप्ताहांत मारपीट और चाकूबाजी की घटनाएं हो रही हैं। इन घटनाओं को लेकर जेल अधीक्षक स्तर से लेकर वार्डर तक के जेल स्टाफ खासे परेशान हैं। इसके अलावा अन्य जेलों में भी कैदी चोरी चुपके सर्जिकल ब्लेड, तंबाकू तथा अन्य प्रतिबंधित सामान लेकर आते रहते हैं। बताया गया कि जेल नंबर तीन में अंकित की मौत के बाद 31 अगस्त से यहां सीसीटीवी कैमरे लगाने का काम लोक निर्माण विभाग ने शुरू किया था, जिसे अब पूरा कर लिया गया है।इस संबंध में तिहाड़ जेल के डीजी संदीप गोयल का कहना है कि जेल नंबर तीन में करीब 600 से अधिक सीसीटीवी लगाए गए हैं। अधिकांश सीसीटीवी कैदियों के बैरक, डयोढ़ी, तीन नंबर जेल के आने-जाने के रास्ते, कैंटीन, खानसामा और अधीक्षक कार्यालय सहित अन्य स्थानों पर लगाए गए हैं। सीसीटीवी कैमरों की मदद से कैदियों की गतिविधियों पर निगरानी रखने में मदद मिलेगी और घटनाओं पर अंकुश लग सकेगा। उन्होंने कहा कि तिहाड़ जेल के अलावा अन्य जेलो में भी सीसीटीवी लगाने का कार्य चल रहा है। तिहाड़ के अलावा रोहिणी तथा मंडोली जेल में भी सीसीटीवी लगाए जाएंगे।