उत्तराखंड: मानसूनी बरसात के बाद प्रदेशभर में 85 सड़कें बंद, भारी बारिश का ऑरेंज अलर्ट जारी

 

 

उत्तराखंड के कई जिलों में हुई बारिश की वजह से राज्य भर में कुल 85 के करीब सड़कें बंद चल रही हैं। इस वजह से लोगों को आवाजाही में परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। मौसम विभाग ने 12 जुलाई से भारी बारिश का ऑरेंज अलर्ट भी जारी किया है। लोनिवि के प्रमुख अभियंता हरिओम शर्मा ने बताया कि राज्य में 85 के करीब सड़कें बंद हैं जिन्हें खोलने के प्रयास चल रहे हैं। उन्होंने कहा कि राज्य में कोई प्रमुख मार्ग बंद नहीं हैं लेकिन बारिश की वजह से पीएमजीएसवाई और ग्रामीण स्तर की कई सड़कें बंद हैं। उन्होंने कहा कि बंद सड़कों को खोलने के प्रयास चल रहे हैं। राज्य में बारिश को देखते हुए सभी डिविजनों को सड़क जल्द से जल्द खोलने के निर्देश दिए गए हैं। संवेदनशील स्थानों पर जेसीबी मशीनों को तैनात रखने के भी निर्देश दिए गए हैं।

दूसरी ओर, उत्तरकाशी जिले में हुई भारी बारिश के चलते गंगोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग रविवार को डबरानी के पास आठ घंटे तक बंद रहा। जिसके चलते उपला टकनौर क्षेत्र के लोगों को खासी परेशानी उठानी पड़ी। सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुंची बीआरओ की टीम ने जेसीबी की मदद से मलबा साफ किया और दोपहर एक बजे तक मार्ग आवाजाही के लिए सुचारू कर दिया। शनिवार देर रात को मौसम ने अचानक करवट बदली और जिला मुख्यालय सहित भटवाड़ी, डुंडा, चिन्यालीसौड़, पुरोला, बड़कोट सहित मोरी व आसपास के क्षेत्र में जमकर भारी बारिश देखने को मिली।  बारिश के चलते भटवाड़ी क्षेत्र के डबरानी के पास पहाड़ी से चट्टान व मलबा टूटकर सड़क पर आ गया। जिससे गंगोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग बाधित हो गया।स्थानीय लोगों ने मार्ग बंद होने की सूचना बीआरओ को दी। जिसके बद मौके पर पहुंची बीआरओ की टीम मार्ग खोलने में जुट गई और आठ घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद दोपहर एक बजे तक मार्ग यातायात के लिए सुचारू कर दिया। वहीं मार्ग बंद होने के उपला टकनौर क्षेत्र के हर्षिल, धराली, मुखबा, सुक्की, झाला के ग्रामीण जाम में फंसे रहे। जिससे उनको खासी परेशानी उठानी पड़ी। जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी देवेन्द्र पटवाल ने बताया कि डबरानी के पास बंद हुआ गंगोत्री हाईवे को यातयात के लिए सुचारू कर दिया गया है। वहीं यमुनोत्री हाईवे सहित जिले भर के ग्रामीण क्षेत्रों को जाने वाले सभी लिंक मार्ग खुले हैं।उत्तराखंड में सोमवार को सभी जनपदों में कहीं-कहीं भारी बारिश का ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है। मौसम विभाग ने संवेदनशील स्थानों में भूस्खलन, चट्टान खिसकने व सड़क मार्ग अवरुद्ध होने की चेतावनी देते हुए यात्रा के समय भरपूर एहतियात बरतने की सलाह दी है। मौसम विभाग के अनुसार, राज्य के सभी पर्वतीय और मैदानी जिलों में सोमवार को जमकर बारिश हो सकती है। जबकि पिथौरागढ़, बागेश्वर, उत्तरकाशी, देहरादून जिलों में कहीं कहीं भारी बारिश के एक दो दौर आ सकते हैं। वहीं 13 को टिहरी, चमोली, नैनीताल, पिथौरागढ़, बागेश्वर जिलों में कहीं कहीं भारी बारिश के साथ आकाशीय बिजली चमकने, 14 को टिहरी, देहरादून, नैनीताल, बागेश्वर जिलों में कहीं कहीं भारी बारिश हो सकती है। 15 को टिहरी, पौड़ी, नैनीताल व चम्पावत जिलों में भारी बारिश का येलो अलर्ट रहेगा। मौसम विभाग के निदेशक बिक्रम सिंह के अनुसार, 15 के बाद भी बारिश का सिलसिला जारी रह सकता है। 

बदरीनाथ हाईवे शिवानंदी में नौ घंटे तक रहा बंद

 
जिले में हुई भारी बारिश के चलते शिवानंदी (घोलतीर) के पास भारी बारिश से बड़ी मात्रा में मबला बदरीनाथ हाईवे पर स्थित एनएच के क्रेशर प्लांट की तरफ आ गया, जिससे एनएच की एक जेसीबी मलबे में दब गई, जबकि तीन अन्य मशीनों को क्षति पहुंची है। हाईवे निर्माण के लिए यहां मौजूद बड़ी मात्रा में गिट्टी भी बर्बाद हुई है। मलबा आने से बंद हाईवे करीब नौ घंटे बाद खुल पाया। इस दौरान गाड़ियों की कतारें लगी रहीं और लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा। जानकारी के मुताबिक रविवार सुबह 5:30 बजे शिवानंदी के ऊपरी क्षेत्र में भारी बारिश से बड़ी मात्रा में मलबा और पानी बदरीनाथ हाइवे की तरफ आ गया। यहां लोनिवि एनएच के क्रेशर प्लांट में मलबे की चपेट में आने से एक जेसीबी दब गई जबकि तीन और मशीनें क्षतिग्रस्त हुई हैं।
बड़ी मात्रा में गिट्टी भी मलबे में दब गई। बदरीनाथ हाईवे पर दोनों ओर से आवाजाही बंद हो गई। सूचना मिलते ही जिला आपदा प्रबंधन की टीम, पुलिस और स्थानीय लोग मौके पर पहुंचे। कार्यदायी संस्था आरसीसी द्वारा क्रेशर प्लांट में काफी नुकसान हुआ है। दो बजे के आसपास हाईवे को खेाल दिया गया। जिला आपदा प्रबन्धन अधिकारी नन्दन सिंह रजवार ने बताया कि घटना में किसी तरह की जनहानि नहीं हुई है। कुछ मजदूर बाल बाल बचे हैं। एक जेसीबी मलबे में दब गई है जबकि तीन क्षतिग्रस्त हैं। एनएच द्वारा दोपहर दो बजे के करीब बदरीनाथ हाईवे को खोल दिया गया है।

पौड़ी में 10 मोटर मार्गों पर यातायात ठप

 
पौड़ी। रविवार को सुबह से ही रूक-रुक कर बारिश होती रही। बारिश से जिले के दो राज्य मार्ग व 8 ग्रामीण मोटरमार्गो पर आवाजाही ठप हो गई है। मोटरमार्गो को खोलने के लिए जेसीबी मशीने लगाई गई हे लेकिन रुक-रुक कर हो बारिश से मोटरमार्गो को खोलने में दिक्कतें हो रही है। रुक-रुक कर हो रही बारिश से रविवार को जिले के राज्यमार्ग थलीसैंण-बूंगीधार, कर्णप्रयाग-नौटी-पैठाणी के साथ ही ग्रामीण मोटरमार्ग ढाडूखाल-सैनार, कुल्हाड़-किंसुर, मैखुली-देवराड़ी, बसोला-बगडियाल, सेतोली-कांडा, पांग-पिनानी, रिठाखाल-नंदोली-बिजोली मोटरमार्ग पर यातायात ठप रहा। मोटरमार्ग पर जगह-जगह बोल्डर व मलबा आने से मोटरमार्ग बंद हो गए है। जेसीबी मशीन की मदद से मोटरमार्गो को खोलने का प्रयास किया जा रहा है लेकिन बोल्डर व मलबा आने से मोटरमागोंर् को खोलने में दिक्कतें आ रही है। 


Sources:HindustanSamachar