यूपी ती तर्ज पर उत्तराखंड में स्कूल खोलने की तैयारी,जानिए शिक्षा विभाग कब से शुरू करेगा क्लासेज

 


  

यूपी की तर्ज पर उत्तराखंड में भी शिक्षा विभाग एक जुलाई से स्कूल खोलने के पक्ष में है। विभागीय समीक्षा बैठक में अफसरो ने एकस्वर में शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने स्कूलों को खोलने की सिफारिश की। शिक्षा मंत्री इस मामले में मुख्यमंत्री तीरथ रावत से वार्ता के बाद अंतिम निर्णय लेंगे। शिक्षा मंत्री ने विधानसभा स्थित अपने कार्यालय में विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की। कोरोना में लगातार कमी को देखते हुए अधिकारियों ने मंत्री से एक जुलाई से स्कूल खोलने की सिफारिश की। सूत्रों के अनुसार, बैठक में अधिकारियों ने कहा कि कोरोना के मानकों का पालन करते हुए स्कूल खोले जा सकते हैं।स्कूलों में 30 जून तक गर्मी की छुट्टियां हैं। शिक्षा मंत्री ने कहा कि ज्यादा समय स्कूल बंद रहना छात्र हित में नहीं है। इस पर सीएम से बातचीत और निर्देश के बाद निर्णय ले लिया जाएगा।  बैठक में शिक्षा सचिव आर मीनाक्षीसुंदरम, डीजी-शिक्षा विनय शंकर पांडे, शिक्षा निदेशक आरके कुंवर, निदेशक एआरटी सीमा जौनसारी, एपीडी-समग्र शिक्षा अभियान डॉ. मुकुल कुमार सती, एडी मुख्यालय रामकृष्ण उनियाल, वीएस रावत, बीएस नेगी आदि मौजूद रहे।कक्षा नौ से 12 तक के ओबीसी और सामान्य बच्चों को मुफ्त किताबें
वर्तमान शैक्षिक सत्र में सरकार कक्षा नौ से बारह तक के सभी सामान्य और ओबीसी छात्रों को भी मुफ्त किताबें देने जा रही है। इस संबंध में में गत सात अप्रैल को मुख्यमंत्री तीरथ रावत की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में सहमति बनी थी। अब तक करीब एक लाख एससी-एसटी छात्रों को ही डीबीटी के जरिए किताबों के लिए 700 से 1000 रुपये दिए जाते हैं। शिक्षा सचिव आर.मीनाक्षीसुंदरम ने कक्षा नौ से 12 तक के बाकी छात्रों को किताबें देने पर आने वाले खर्च का पूरा प्रस्ताव बनाकर सरकार को देने के लिए कहा है। सूत्रों के अनुसार इस पर करीब 25 करोड़ रुपये का अतिरिक्त वित्तीय भार आएगा।