सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

पूर्व सीएम त्रिवेंद्र रावत के ड्रीम प्रोजेक्ट में वित्तीय गड़बड़ी का खुलासा

  उत्तराखण्ड के पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत के ड्रीम प्रोजेक्ट में शुमार ‘सूर्यधार झील’ में वित्तीय गड़बड़ी की पुष्टि हुई है। इस पर सिंचाई मंत्री सतपाल महाराज ने इस मामले के दोषियों पर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। आपको बता दें कि दो साल पहले जांच शुरू हुई थी, जैसा कि मालूम हो कि  29 जून 2017 को तत्कालीन मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सूर्यधार झील के निर्माण की घोषणा की थी। 22 दिसंबर 2017 को इसके लिए 50 करोड़ 24 लाख रुपये का बजट मंजूर करा गया था। इसके बाद 27 अगस्त 2020 को सिंचाई मंत्री सतपाल महाराज ने सूर्यधार बैराज निर्माण स्थल का निरीक्षण किया तो उनका खामियां मिलीं। मौके पर खामियां सामने आने के बाद महाराज ने जांच के आदेश दे दिए थे। मामले की जांच को 16 फरवरी 2021 को तीन सदस्यीय कमेटी का गठन किया गया था। इस समिति ने 31 दिसंबर 2021 को शासन को रिपोर्ट सौंप दी। पर्यटन मंत्री महाराज को चार जनवरी 2022 को रिपोर्ट मिली तो उन्होंने कार्रवाई के निर्देश दे दिए। अब सिंचाई सचिव हरिचंद सेमवाल ने इस मामले में सिंचाई विभाग के एचओडी प्रमुख अभियंता इंजीनियर मुकेश मोहन को कार्रवाई करने के निर्देश

सत्ता के लिए रोजाना बंगाल आए मंत्री लेकिन केंद्र ने पिछले छह महीने में नहीं किया कोई कामःममता बनर्जी

  


 

लगातार तीसरी बार सत्ता में काबिज होने के बाद पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भाजपा पर हमलावर हैं। आज एक बार फिर से केंद्र की भाजपा सरकार पर उन्होंने जमकर निशाना साधा। ममता बनर्जी ने आरोप लगाया कि पिछले 6 महीने से केंद्र सरकार ने कोई काम नहीं किया है। उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल की सत्ता पर काबिज होने के इरादे से मंत्री हर रोज बंगाल आते रहे।पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने कहा कि चुनाव आयोग को तत्काल सुधार की आवश्यकता है। बंगाल में एक रीढ़ है और यह कभी नहीं झुकती है। एक साजिश थी, सभी केंद्रीय मंत्री यहां उतरे। मुझे नहीं पता कि उन्होंने विमानों और होटलों पर कितने करोड़ रुपये खर्च किए। यहां पानी की तरह बह रहा था पैसा। ममता ने कहा कि  बंगाल के साथ इतना भेदभाव क्यों है? उन्होंने शपथग्रहण के 24 घंटे के भीतर केंद्रीय टीम भेजी। दरअसल, वे (भाजपा) जनता के जनादेश को मानने के लिए तैयार नहीं हैं। मैं हिंसा का कभी समर्थन नहीं करता। वे फर्जी खबरें और फर्जी वीडियो फैला रहे हैं। ममता बनर्जी ने अपने हमलावर रुख को जारी रखते हुए आरोप लगाया कि सभी का टीकाकरण केंद्र की प्राथमिकता होनी चाहिए थी, लेकिन वह नए संसद भवन, प्रधानमंत्री के आवास आदि पर 50000 करोड़ रुपए खर्च कर रही है। ममता बनर्जी ने यह बातें विधानसभा में कहीं। इससे पहले पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर कोविड-19 के उपचार के लिए चिकित्सीय ऑक्सीजन की आपूर्ति बढ़ाने का अनुरोध किया है। ममता ने यह भी कहा कि केंद्र ने पश्चिम बंगाल में कुल उत्पादन में से अन्य राज्यों के लिए ऑक्सीजन आवंटन में पश्चिम बंगाल की जरूरत बढ़ने के बावजूद बढ़ोतरी की। 


Source:prabhshakshi

टिप्पणियाँ

Popular Post