सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

हरियाणा में बड़ा हादसा, दो कारों में टक्कर, 6 लोगों की मौत

    हरियाणा : कैथल में आज सुबह-सुबह एक बड़ा हादसा हो गया। कैथल में मंगलवार की सुबह दो कारें आपस में टकरा गईं, जिसमें 6 लोगों की मौत हो गई। यह घटना कैथल जिले के पाई गांव की है, जहां आज सुबह करीब सात बजे आई-10 और स्विफ्ट डिजायर कार में आमने-सामने से जोरदार टक्कर हुई। इस हादसे में चार लोग घायल हुए हैं, जिनका कैथल सिविल अस्पताल में इलाज चल रहा है।  पुलिस ने बताया कि आई-10 में सवार छह लोग शादी में शामिल होकर पुंडरी लौट रहे थे, जबकि डिजायर में चार सवार कुरुक्षेत्र से कैथल के मल्हार गांव जा रहे थे। आई-10 में यात्रा करने वाले चार मृतकों की पहचान बरेली निवासी सत्यम (26), पुंडरी के रमेश (55), नरवाना के अनिल (55) और हिसार के शिवम (20)  के रूप में हुई है। वहीं, अन्य दो मृतक डिजायर में सफर कर रहे थे, जिनकी पहचान विनोद (34) और पत्नी राजबाला (27) के रूप में हुई है। ये दोनों मल्हार गांव के थे। इनके सात साल के बेटे विराज को चोटें आईं हैं। इसके अलावा, उसी गांव के सोनिया भी घायल हुई हैं।  आई-10 में सफर कर रहे पुंडरी के सतीश और नरवाना के बलराज भी घायल हो गए हैं। इन सभी घायलों का इलाज कैथल सिविल अस्पताल मे

क्या दमा के मरीज़ों का बदला इम्म्युन एक्टिवेशन बनाता है कोविड को उनके लिए कम घातक?

   

Climate कहानी 

 कोविड का नाम सुनते ही साँसों का उखड़ना, खांसी, और फेफड़ों की जकड़न का ख्याल आता है। दमा के मरीज़ों के लिए तो ये बीमारी जानलेवा सी लगती है। लेकिन पीजीआई चंडीगढ़ और पंजाब युनिवेर्सिटी में हुए एक शोध से हैरान करने वाले नतीजे सामने आये हैं।

सस्टेनेबल सिटीज़ एंड सोसाइटी नाम के जर्नल में प्रकाशित इस शोध के नतीजों को मानें तो एलर्जिक राइनाइटिस और अस्थमा के रोगियों में पहले से बदला हुआ एक ऐसा इम्म्युन एक्टिवेशन, या प्रतिरक्षा सक्रियता पाई गई जो कोविड 19 से सुरक्षा प्रदान करने में मदद कर सकती है।

इस अध्ययन में शोधकर्ताओं ने अस्थमा और एलर्जिक राइनाइटिस रोगियों में आश्चर्यजनक रूप से COVID-19 का अप्रत्याशित कम प्रसार देखा। उनका अध्ययन बताता है कि कुछ प्रकार की प्रतिरक्षा-प्रतिक्रियाएंईोसिनोफिल्स का संचयकम ACE-2 रिसेप्टर्स प्रदर्शन, Th-2 विकृत प्रतिरक्षा और उन्नत हिस्टामीनइम्युनोग्लोबिन ई (IgE) सीरम स्तर और व्यवस्थित स्टेरॉयड एलर्जी के रोगों या अस्थमा के रोगियों की संभावित विशेषताएं जो COVID-19 की कम गंभीरता से जुड़ी पाई गईं हैं। इसलिएशोधकर्ताओं ने कहा कि पराग जैव-एयरोसोल्स पूर्व-परिवर्तित प्रतिरक्षा सक्रियण का कारण बन सकते हैंजो COVID-19 संक्रमण या संक्रमण की गंभीरता से बचाता है।

दरअसल इस बात के सबूत बढ़ रहे हैं कि SARS-CoV-2 एक संक्रमित व्यक्ति से बायोएरोसोल के फैलाव के माध्यम से फैल सकता है। एयरबोर्न (हवाई) पराग SARS-CoV-2 परिवहनफैलाव और इसके प्रसार के लिए एक प्रभावी वाहक के रूप में काम कर सकता है। यह COVID-19 के तेजी से प्रसार के संभावित कारणों में से एक हो सकता है। हालांकिबायोएरोसोल ट्रांसमिशन के पहलुओं के साथ कोरोनावायरस की जटिलता को अभी भी और परीक्षण की आवश्यकता है। इन चिंताओं को ध्यान में रखते हुएपोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च (PGIMER), चंडीगढ़ और पंजाब यूनिवर्सिटीचंडीगढ़ की एक टीम ने एलर्जिक राइनाइटिस और अस्थमा की गंभीरता में पराग बायोएरोसोल्स, COVID-19, मौसम संबंधी मापदंडों और प्रत्याशित जोखिम के बीच संबंध को बेहतर ढंग से समझने के लिए मौजूदा वैज्ञानिक सबूतों की जांच की। शोधकर्ताओं की इस टीम में डॉ रविंद्र खाईवालसामुदायिक स्वास्थ्य विभाग और जन स्वास्थ्य विभाग, PGIMER, चंडीगढ़भारत से पर्यावरणीय स्वास्थ्य के अतिरिक्त प्रोफेसर और सुश्री अक्षी गोयलरिसर्च स्कॉलर और डॉसुमन मोरपर्यावरण अध्ययन विभागपंजाब विश्वविद्यालयचंडीगढ़ से अध्यक्ष और एसोसिएट प्रोफेसर शामिल हैं।

डॉ. खाईवाल ने ज़िक्र किया कि वसंत परिवेश में सुंदरता लाता है लेकिन यह मौसमी एलर्जी के लिए वर्ष का एक महत्वपूर्ण समय है और जैसे ही पौधे पराग छोड़ते हैंलाखों लोग पोलिनोसिस (परागण) या एलर्जिक राइनाइटिस के कारण नाक सुड़कने और छींकने लगते हैं। उन्होंने कहा कि उनके अध्ययन ने पराग बायोएरोसोल और COVID-19 सहित बदलते जलवायु में मौसम संबंधी मापदंडों के प्रभाव के बीच संबंधों की जांच की। सुश्री अक्शी ने उल्लेख किया कि पराग कण उच्च जैविक कोशिकाओं द्वारा निर्मित यौन प्रजनन के लिए महत्वपूर्ण पुरुष जैविक संरचनाएं हैं। उन्होंने कहा कि इनका आकार 2 माइक्रोन - 300 माइक्रोन (2 µm - 300 µm) के बीच भिन्न होती है और वे स्वयं स्थिर रहते हैं और हवाकीड़ेपक्षी और पानी जैसे एजेंटों द्वारा फैलाये जाते है। डॉ। मोर ने कहा कि अध्ययन का मुख्य उद्देश्य पराग कणों के माध्यम से COVID -19 के हवाई प्रसारण की जांच करना और COVID -19 के प्रसार को प्रतिबंधित करने के लिए प्रमुख अंतराल की पहचान करना था। उन्होंने आगे कहा कि यह वायुजनित पराग और COVID-19 पर आधारित पहला वैश्विक अध्ययन है  जिसका उद्देश्य संक्रामक रोगों के नियंत्रण के लिए एक अलग दृष्टिकोण की ओर अनुसंधान को बढ़ावा देना है।

डॉ। खाईवालपीजीआई चंडीगढ़, ने उल्लेख किया कि उन्होंने न केवल पराग और COVID-19 के बीच सीधे संबंधों की जांच कीबल्कि पराग-विषाणु लगाव के जैविक और भौतिक पहलुओंउनकी व्यवहार्यता और लंबी दूरी के परिवहन पर भी ध्यान दिया क्योंकि इससे COVID-19 का संचरण प्रभावित हो सकता है। पंजाब विश्वविद्यालयचंडीगढ़, के डॉमोर ने आगे कहा कि यह अध्ययन भविष्य के कोरोना जैसी संक्रामक बीमारियों को दूर करने के लिए अतिरिक्त सुरक्षा परतें प्रदान करने की हर संभावना की खोज पर केंद्रित है।

अध्ययन को हाल ही में सस्टेनेबल सिटीज़ एंड सोसाइटी में स्वीकार किया गया हैजो एल्सेवियर (Elsevier) द्वारा एक प्रतिष्ठितसहकर्मीयों द्वारा समीक्षा की गई,  अंतर्राष्ट्रीय पत्रिका है। जैसा कि विशेषज्ञों में से एक ने उजागर किया हैयह सफल योगदान COVID -19 के प्रकोप पर वायुजनित पराग के प्रभाव की समझ को बढ़ाएगा और COVID -19 के संक्रमण और गंभीरता और इसी तरह के संक्रामक रोगों को कम करने के लिए आगे के शोधों पर नए विचारों के लिए दरवाजे खोल देगा।


Sources:


टिप्पणियाँ

Popular Post

चित्र

बदायूं: बिसौली आरक्षित सीट को लेकर राजनीतिक दलों में गहन मंथन, भाजपा से सीट छीनने की फिराक में सपा आशुतोष मौर्य पर फिर खेल सकती है दांव

चित्र

त्रिपुरा हिंसा : सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और राज्‍य सरकार को दो हफ्ते के भीतर जवाब देने के दिए निर्देश