कोरोना टीका लगने के बाद संक्रमित हो रहे स्वास्थ्य कर्मी

  


 कोरोना की दूसरी लहर ने अस्पतालों पर एकाएक बोझ बढ़ा दिया है। फ्रंटलाइन स्वास्थ्य वर्कर एक बार फिर सबसे आगे मोर्चे पर हैं। पहली लहर के विपरीत इस बार अस्पतालों में स्वास्थ्य कर्मियों की सुरक्षा के लिए पीपीई किट, फेस शिल्ड, मास्क, ग्लब्स का पर्याप्त इंतजाम है, फिर भी कई जगह स्वास्थ्य कर्मी फिर संक्रमित होने लगे हैं। अब जबकि ज्यादातर स्वास्थ्य कर्मियों को दो- दो टीके लग चुके हैं, बावजूद इसके प्रदेश के विभिन्न अस्पतालों में 67 स्वास्थ्य कर्मी संक्रमित चल रहे हैं। इसमें डॉक्टर से लेकर नर्सिंग स्टॉफ तक शामिल हैं। 

दून अस्पताल - एमएस भी हुए संक्रमित
सबसे बड़े कोविड अस्पताल, दून अस्पताल में इस समय एमएस डॉक्टर केसी पंत सहित कुल 17 स्वास्थ्य कर्मी संक्रमित चल रहे हैं। दूसरी तरफ कोरोनेशन अस्पताल में भी डॉक्टर सहित दस स्वास्थ्य कर्मी संक्रमित चल रहे हैं। फिलहाल अस्पतालों में पीपीई किट, मास्क और ग्लब्ज की कोई कमी नहीं है। अभी कोविड ड्यूटी दे रहे स्वास्थ्य कर्मियों के लिए गेस्ट हाउस या होटल की व्यवस्था नहीं की गई है। दून अस्पताल के प्राचार्य डॉ आशुतोष सयाना के मुताबिक डॉक्टरों से और स्टाफ से आठ घंटे की ड्यूटी कराई जा रही है। इधर, ऋषिकेश में दूसरी लहर के बीच अब तक चार स्वास्थ्यकर्मी कोरोना पॉजिटिव आ चुके हैं।

हरिद्वार : 19 स्वास्थ्य कर्मी बीमार
हरिद्वार जिले में इस समय 19 स्वास्थ्य कर्मी संक्रमित हैं, जो कि पूर्व में सभी टीका लगा चुके हैं। जबकि कुछ अन्य स्वास्थ्य कर्मियों की अभी जांच रिपोर्ट आनी शेष है। फिलहाल अस्पतालों में पीपीई किट, फेस शील्ड, मास्क का पूरा इंतजाम हैं। सीएमओ डॉ एसके झा ने बताया कि फिलहाल एक कर्मचारी से निर्धारित आठ घंटे ही काम कराया जा रहा है लेकिन डाटा एंट्री जैसे काम में लगे कुछ कर्मचारियों को कई बार 10 से 11 घंटे भी काम करना पड़ रहा।

गढ़वाल: फिलहाल ज्यादा संकट नहीं
गढ़वाल। टिहरी के एसीएमओ डा एलडी सेमवाल ने बताया कि कुछ मेडिकल कर्मियों की कोविड जांच कराई गई थी, जो सभी नेगेटिव आई हैं। उन्होंने बताया कि इस समय नरेंद्रनगर में कोविड सेंटर की देख रेख कर रहे स्वास्थ्य कर्मियों को लोनिवि गेस्ट हाउस में ठहराया जा रहा है, इसी तरह ऋषिलोक में भी जीएमवीएन गेस्ट हाउस की व्यवस्था की गई है। पौड़ी में इस समय एक डॉक्टर कोरोना संक्रमित चल रहे हैं।

कुमांऊ : कई डॉक्टर हुए संक्रमित
हल्द्वानी। नैनीताल जिले में 10 स्वास्थ्य कर्मी कोरोना संक्रमित हुए हैं। स्वास्थ्य कर्मी 10 से 12 घंटे नियमित ड्यूटी कर रहे हैं। सीएमओ डॉ. भागीरथी जोशी का कहना है कि संसाधनों को लेकर फिलहाल कोई समस्या नहीं है। रुद्रपुर जिला अस्पताल में महिला समेत चार डॉक्टर कोरोना संक्रमित हैं। पीएमएस डॉ.आरएस सामंत ने बताया कि रुद्रपुर में 29 डॉक्टरों में से चार डॉक्टरों के संक्रमित होने, तीन के कुंभ ड्यूटी में जाने और एक महिला डॉक्टर के गर्भवती होने से दिक्कत हो रही है। कुछ डॉक्टरों को ड्यूटी के अलावा तीन से चार घंटे अतिरिक्त काम करना पड़ रहा है। इधर, बागेश्वर में भी इस समय दो स्वास्थ्यकर्मी संक्रमित पाए गए हैं।

एक लाख 08 हजार का चालान
24 मार्च के बाद से बिना मास्क घूमने वालों और सोशल डिस्टेंस का पालन न करने वालों पर पुलिस ने सख्ती शुरू कर दी है। इसी क्रम में अब तक पुलिस 1.08 लाख लोगों का चालान कर चुकी है। डीजीपी अशोक कुमार ने बताया कि एक महीने से भी कम समय में कुल 1.90 करोड़ रुपए का जुर्माना वसूला गया। इन दिनों प्रति दिन आठ हजार से अधिक लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है।
 
कोरोना संक्रमण बढ़ने की वजह से बड़ी संख्या में स्वास्थ्य कर्मी भी संक्रमित हो रहे हैं। जो अस्पताल डेडिकेटेड कोविड हॉस्पिटल नही बनाये गए हैं वहां ज्यादा दिक्क्क्त आ रही है। सभी डॉक्टरों व स्टाफ को पीपीई किट व अन्य एहतियातन कदम उठाने को कहा गया है। ताकि स्वास्थ्य कर्मी संक्रमण से बचे रह सकें।

डॉ एस के गुप्ता, निदेशक स्वास्थ्य