सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

लखीमपुर खीरी हिंसा: जांच कर रही एस.आई.टी ने चश्मदीद गवाहों से साक्ष्य देने के लिए निकाला विज्ञापन

    लखनऊ  /   लखीमपुर हिंसा कांड में उत्तर प्रदेश सरकार को सुप्रीम कोर्ट द्वारा सभी गवाहों को सुरक्षा देने के निर्देश के बाद विशेष अनुसंधान दल (एसआइटी) ने जांच की गति और तेज कर दी है। एसआइटी ने चश्मदीद गवाहों से साक्ष्य देने का अनुरोध करते हुए विज्ञापन निकाला है। विज्ञापन में एसआइटी अपने सदस्यों के संपर्क नंबर जारी किया है। प्रत्यक्षदर्शियों से आगे आकर अपने बयान दर्ज कराने और डिजिटल साक्ष्य प्रदान करने के लिए उनसे संपर्क करने का आग्रह करती किया है। एसआइटी का कहना है कि ऐसे लोगों की जानकारी गोपनीय रखी जाएगी और उन्हें पुलिस सुरक्षा दी जाएगी। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को उत्तर प्रदेश सरकार को आदेश दिया है कि लखीमपुर खीरी हिंसा मामले के सभी गवाहों को गवाह सुरक्षा योजना, 2018 के मुताबिक पुलिस सुरक्षा दी जाए। साथ ही कोर्ट ने अन्य महत्वपूर्ण गवाहों के बयान भी सीआरसीपी की धारा-164 के तहत मजिस्ट्रेट के समक्ष जल्द दर्ज कराने का निर्देश देते हुए कहा कि अगर बयान दर्ज करने के लिए मजिस्ट्रेट उपलब्ध नहीं हैं तो जिला जज नजदीक के मजिस्ट्रेट से बयान दर्ज कराएंगे। इसके अलावा कोर्ट ने हिंसा म

नौकरशाही में जल्द हो सकता बड़ा फेयरबदल

  

नौकरशाही को लेकर सीएम तीरथ रावत का सबसे पहला आदेश सचिव शैलेश बगोली को सीएम सचिव बनाने का हुआ। बताया जा रहा है कि जल्द सीएम सचिवालय में कई बड़े बदलाव भी होने जा रहे हैं। नौकरशाही को पूरी तरह नये सिरे से डिजाइन किया जाएगा। शैलेश बगोली के पास अभी तक सचिव शहरी विकास, आवास, परिवहन का जिम्मा रहा। सचिव सीएम के रूप में उनकी जिम्मेदारी को बढ़ा दिया गया है। अब सीएम सचिवालय में अपर मुख्य सचिव राधा रतूड़ी, सचिव अमित नेगी, सचिव राधिका झा, प्रभारी सचिव नीरज खैरवाल अन्य है। अपर सचिवों की संख्या अलग हैं। इस सीएम सचिवालय में जल्द बड़ा बदलाव देखने को मिलेगा। लंबे समय से डंप पड़े कई अफसरों के पुनर्वास की उम्मीद जगी है, तो कई तेज तर्रार के पर कतरने की संभावना।सुबह पूर्व सीएम बीसी खंडूड़ी के आवास में मीडिया से बातचीत में सीएम तीरथ सिंह रावत ने अपनी टीम का गठन जल्द करने के संकेत भी दिए। कहा कि जल्द ही इस बाबत निर्णय ले लिया जाएगा।

सोशल मीडिया में नौकरशाही के किस्से
सोशल मीडिया में नौकरशाही को लेकर खासी चर्चाएं हैं। बगौली के सचिव के रूप में चयन के भी काफी निहितार्थ निकाले जा रहे हैं। बगौली की छवि शांत रहते हुए समर्पित होकर काम करने वाले अधिकारी की है। कुछ चर्चित अधिकारियों को लेकर चटखारे लेकर चर्चाएं भी जारी हैं।

जिलों में भी दिखी बेचैनी
नये निजाम में अपनी कुर्सी बचाने की बेचैनी जिलों में भी नजर आई। जिलाधिकारी, एसएसपी समेत अन्य अहम पदों पर बैठे लोग राजधानी में बैठे संपर्कों से अपडेट लेते दिखे। हालांकि गुरुवार को महाशिवरात्री का अवकाश होने के कारण शासन स्तर पर चहलकदमी कम दिखी, लेकिन शुक्रवार को काफी स्थिति साफ होने की उम्मीद है।



टिप्पणियाँ

Popular Post