200 कौवों की मौत से दिल्ली के मयूर विहार में मचा हड़कंप, जांच के लिए भेजे गए सैंपल

 

देश में 'बर्ड फ्लू के खतरे के बीच राजधानी दिल्ली के मयूर विहार फेज-3 स्थित सेंट्रल पार्क में पिछले कुछ दिनों अब तक लगभग 200 कौवों की यहां मौत हो चुकी है। पार्क में फिलहाल सैनिटेशन अभियान चलाए जा रहे हैं और इसे आम लोगों के लिए बंद कर दिया गया है। कल अधिकारियों द्वारा पांच कौवों के शवों को टेस्ट के लिए जालंधर भेजा गया है।

मयूर विहार में सेंट्रल पार्क के केयर टेकर टिंकू चौधरी ने बताया कि पिछले 1 हफ्ते में 150-200 कौवों की मौत हो गई। हम पार्क में किसी को नहीं आने दे रहे हैंं। आज भी 15-16 कौवों की मौत हुई है। जांच के लिए मृत कौवों के सैंपल्स भेज दिए गए हैं। 

गुरुवार को सरकार की ओर से जारी बयान के अनुसार, मामला प्रकाश में आते ही उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के निर्देश पर मयूर विहार फेज तीन के सेंट्रल पार्क में क्विक रिस्पॉन्स टीम को भेजा गया। बयान में कहा गया कि पार्क में 17 कौवे मृत पाए गए और चार नमूने एकत्र किए गए। शेष मृत पक्षियों को जमीन के अंदर गहराई में दफना दिया गया। डीडीए पार्क, द्वारका में दो कौवे मृत पाए गए और एक नमूना वहां से एकत्र किया गया।

इससे पहले, पशुपालन विभाग के एक अधिकारी ने कहा था कि हमें द्वारका और मयूर विहार फेज-तीन तथा पश्चिमी दिल्ली के हस्तसाल गांव से कौवों की मौत की सूचना मिली है, लेकिन अभी इस बात की पुष्टि नहीं हुई है कि क्या ये मौतें बर्ड फ्लू संक्रमण से हुई हैं।    

उपमुख्यमंत्री सिसोदिया ने गुरुवार को कहा था कि शहर में अभी तक बर्ड फ्लू का कोई मामला नहीं है और अधिकारियों को पड़ोसी राज्यों से आने वाले पोल्ट्री पक्षियों पर नजर रखने को कहा गया है ताकि संक्रमण को फैलने से रोका जा सके। अधिकारियों ने बताया कि दिल्ली में संभावित हॉट स्पॉट पर नजर रखने के लिए 11 क्विक रिस्पॉन्स टीमें गठित की गई हैं। सिसोदिया ने मुर्गी बाजारों, जलाशयों, चिड़िया घरों और अन्य संभावित जगहों पर नजर रखने को कहा है। इनमें गाजीपुर मछली और मुर्गी बाजार, शक्ति स्थल झील, संजय झील, भलस्वा झील, दिल्ली चिड़िया घर और डीडीए के पार्कों में बने छोटे-छोटे तालाब शामिल हैं। 

बता दें कि केंद्र सरकार ने बुधवार को कहा था कि हिमाचल प्रदेश, मध्य प्रदेश, राजस्थान और केरल में 12 जगहों से बर्ड फ्लू के मामले आ रहे हैं, वहीं पंचकूला के 'पॉल्ट्री फॉर्म में बड़ी संख्या में मुर्गियों की असामान्य मौत के बाद हरियाणा में भी हाई अलर्ट है।

वहीं, दिल्ली सरकार के पशु पालन विभाग के डॉक्टर सुनील सिंह तोमर ने कहा कि हमने स्थिति की निगरानी और निरीक्षण करने और उचित नमूने सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए हैं। दिल्ली सरकार द्वारा 11 रैपिड रिस्पॉन्स टीमें बनाई गई हैं जो अपने-अपने इलाकों में नजर बनाए हुए हैं। डॉ. सुनील सिंह तोमर ने कहा कि हमें अब तक कुछ भी खतरनाक नहीं दिखा है। पोल्ट्री फार्मों से अनिवार्य स्वास्थ्य प्रमाणपत्र लेने का प्रावधान है। क्रॉस-चेकिंग के लिए हम पक्षियों के नमूने लेने के साथ ही रैंडम निरीक्षण भी करते हैं। 

दिल्ली में कथित बर्ड फ्लू के बढ़ते मामलों के कारण अंडे और चिकन कारोबारियों को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है। एक चिकन शॉप के दुकानदार ने बताया कि बर्ड फ्लू के कारण पिछले 3-4 दिन से कुछ काम नहीं है। पहले हम रोज 8-10 हजार रुपये की कमाई करते थे अब कमाई सिर्फ 2-3 हजार रुपये की रह गई है। 

वहीं, गाजीपुर मंडी के महासचिव मोहम्मद सलीम ने कहा कि बर्ड फ्लू के डर से हमने 5-6 सदस्यों की एक समिति बनाई है जो बाजार का सर्वे और विभिन्न दुकानों पर मुर्गी की गुणवत्ता की जांच कर रही है।   


Sources:Hindustan Samachar