अफसर ठेके-टेंडर के प्रस्ताव लिखते हैं अंग्रेजी मे। नेताजी पीट रहे माथा। उतरे विरोध मे


सतपुली /सतपुली नगर पंचायत में एक मामला सामने आया है कि नगर पंचायत अधिकारियों के द्वारा बोर्ड बैठक के लिए सभी सभासदों के लिए पत्र भेजे गए जो कि आधा अंग्रेजी आधा हिंदी में था।इस पर एक सभासद थामेस्वर प्रसाद कुकरेती ने पत्र को रिसीव करते हुए ये लिखा कि उनको अंग्रेजी समझ में नही है उनको हिंदी में पत्र दिया जाए। इस कारण बोर्ड बैठक में केवल एक ही सभासद पहुंची। बाकी सभी सभासद बैठक में नही पहुंचे।


सभासद थामेस्वर प्रसाद कुकरेती का कहना है कि नगर पंचायत के अधिशासी अधिकारी पहले ही प्रस्ताव बना देते हैं। हमे फॉर्मलिटी के लिए बुलाया जाता है। बैठक के कुछ ही घण्टे पहले हमें सूचित किया जाता है। फिर ऐसे में हम अपने वार्ड प्रस्तावों की जानकारी कैसे तैयार कर सकते हैं !



जब नगर पंचायत की शुरुआती बैठक हुई थी, तब सभी सदस्यों ने अधिकारियों को कहा था कि जब भी कोई भी पत्र ,सूचना या अन्य कोई भी प्रस्ताव बनाना है तो केवल हिंदी में बनायें, लेकिन निकम्मे अधिकारी किसी की नही सुनते।


 


बीते 30 सितंबर को बोर्ड की बैठक होनी थी तो नगर पंचायत अधिकारी ने सभासदों को 29 सितंबर शाम 7 बजे इसकी जानकारी दी।



हमारे से गलती हो गई थी फिलहाल कोई भी प्रस्ताव पास नहीं हुये है आगे से हम सभी पत्र या सूचना हिंदी में देंगे।


 


सुशील बहुगुणा 


 


अधिशासी अधिकारी, नगर पंचायत, सतपुली


Source :Parvatjan