दिल्ली में मुठभेड़ के बाद नंदू गैंग के 4 शूटर गिरफ्तार, 3 को पैर में लगी गोली, नजफगढ़ के एक कारोबारी की हत्या का था प्लान

 

 



दिल्ली के जाफरपुर कलां में दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल और बदमाशों के बीच हुई मुठभेड़ के बाद कुख्यात नंदू गैंग के चार शूटर्स को गिरफ्तार कर लिया गया। इस मुठभेड़ के दौरान चार में से तीन आरोपी गोली लगने से घायल हो गए। दिल्ली पुलिस ने सोमवार को यह जानकारी दी।डीसीपी संजीव यादव ने पुलिस ने बताया कि नंदू गैंग के सदस्य फिरौती नहीं दिए जाने पर नजफगढ़ इलाके में एक कारोबारी की हत्या की साजिश रच रहे थे। हमलावरों की पहचान विनय उर्फ ​​नितिन (23), रॉबिन बालियान (18), सुमित (20) और रोहित (18) के रूप में हुई है। रोहित के अलावा बाकी आरोपियों के पैर में गोली लगी है। पुलिस के मुताबिक रोहित ने एक कारोबारी को निशाना बनाने का काम आरोपी और मलिकपुर के धर्मेंद्र डागर को दिया था।पुलिस ने बताया कि आरोपियों में से एक सुमित उज्जैन गांव में सेना के एक जवान की हत्या करने वाले शूटरों का पड़ोसी है। एक आरोपी विनय ने इन सभी बदमाशों को रहने के लिए जगह दी थी, जहां वे एक महीने से रह रहे थे।पुलिस ने कहा कि कपिल सांगवान उर्फ ​​नंदू ने नजफगढ़ के कई कारोबारियों से रंगदारी मांगी थी। इनमें बाजारों के मालिक और ठेकेदार भी शामिल हैं। पुलिस के मुताबिक, उनसे एक करोड़ रुपये की रंगदारी वसूल की जानी थी। हालांकि, रंगदारी देने के बजाय एक कारोबारी ने पुलिस में इसकी शिकायत दर्ज कराई।इसी मामले में सेना का एक जवान सूरज भान भी शहीद हो गया था, जिसके बाद सहायक पुलिस आयुक्त (एसीपी) संजय दत्त की देखरेख में इंस्पेक्टर मान सिंह, हेड कॉन्स्टेबल राहुल और प्रवीण की एक टीम बनाई गई थी। पुलिस को पता चला था कि आरोपी मलिकपुर में व्यापारी की हत्या की योजना बना रहे थे, इसलिए उन्होंने दो बाइकों पर आए आरोपियों को पकड़ने का प्रयास किया।हालांकि, इस बीच आरोपियों ने पुलिस पर फायरिंग कर दी। इसके बाद जवाबी कार्रवाई करते हुए पुलिस ने चार बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया। मुठभेड़ के दौरान पैर में पुलिस की गोली लगने से तीन बदमाश घायल हो गए, जिन्हें राव तुलाराम अस्पताल में भर्ती कराया गया है। नंदू गैंग नजफगढ़, द्वारका और उत्तम नगर इलाके में ज्यादा सक्रिय है।  

Sources:hindustansamachar