जम्मू कश्मीर-अल-बद्र के दो आतंकवादियों सहित पांच गिरफ्तार

  


 श्रीनगर /  जम्मू कश्मीर के कुपवाड़ा जिले में पुलिस ने आतंकवादी संगठन अल-बद्र के दो आतंकवादियों और उनके तीन सहयोगियों को गिरफ्तार कर उनके कब्जे से हथियार एवं गोला-बारूद जब्त किया है। यह जानकारी अधिकारियों ने मंगलवार को दी। पुलिस के एक प्रवक्ता ने बताया, ‘‘हंदवारा में पुलिस ने प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन अल-बद्र के एक आतंकवादी मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया और दो आतंकियों तथा उनके तीन सहयोगियों को गिरफ्तार किया। हथियार और गोला-बारूद सहित भारी मात्रा में सामग्री भी बरामद की गई है।’’ उन्होंने कहा कि उत्तरी कश्मीर जिले के बारामुला-हंदवारा राजमार्ग पर आतंकवादियों की आवाजाही के संबंध में एक विशिष्ट सूचना पर सुरक्षा बलों ने कचलू क्रॉसिंग के पास एक विशेष चौकी स्थापित की।उन्होंने कहा कि वाहनों की जांच के दौरान, मोटरसाइकिल सवार तीन व्यक्तियों ने मौके से भागने की कोशिश की, लेकिन सतर्क बलों ने उन्हें पकड़ लिया। प्रवक्ता के अनुसार, उनकी पहचान मोहम्मद यासीन राथेर, शौकत अहमद गनी और गुलाम नबी राथेर के रूप में की गई है और ये सभी कचलू काजियाबाद गांव के रहने वाले हैं। उन्होंने बताया कि तलाशी के दौरान उनके कब्जे से प्रतिबंधित संगठन अल-बद्र से संबंधित सामग्री और हथियार एवं गोला बारूद जब्त किए गए। प्रवक्ता ने कहा कि प्रारंभिक जांच से पता चला है कि गिरफ्तार किए गए व्यक्ति अल-बद्र के लिए काम कर रहे थे और आतंकवादियों को साजोसामान, भोजन और आश्रय प्रदान करने में शामिल थे।उन्होंने कहा कि वे संगठन के लिए एक आतंकवादी सहयोगी नेटवर्क स्थापित करने में मदद कर रहे थे जिसमें उनकी आवाजाही के लिए सुरक्षित मार्ग की पहचान करना भी शामिल था। पुलिस मामला दर्ज कर आगे की जांच कर रही है। प्रवक्ता ने कहा कि जांच के दौरान गिरफ्तार किए गए व्यक्तियों ने खुलासा किया कि उन्हें दो अन्य व्यक्तियों के बारे में जानकारी है जो हाल ही में आतंकवादी संगठन में शामिल हुए हैं और हंदवारा क्षेत्र में सक्रिय हैं। उन्होंने कहा कि तदनुसार सुरक्षा बलों ने बदरकाली के वन क्षेत्र में घेराबंदी करके तलाशी अभियान चलाया। प्रवक्ता ने बताया कि अभियान के दौरान दोनों आतंकवादियों को हथियार और गोला बारूद के साथ गिरफ्तार किया गया। प्रवक्ता ने बताया कि उनकी पहचान सलीम यूसुफ राथेर और इखलाक अहमद शेख के तौर पर की गई है और दोनों वतरगाम के निवासी हैं। प्रवक्ता ने बताया कि जांच में यह भी पता चला है कि दोनों हाल ही में आतंकवादी संगठन में शामिल हुए थे और इलाके में हिंसा के लिए सुरक्षा बलों के प्रतिष्ठानों, पंचों, सरपंचों और अन्य लोगों पर हमला करने का षड्यंत्र रच रहे थे। उन्होंने कहा कि मामले की आगे की जांच जारी है।