किसान संगठनों के नेता बोले,किसानों और पुलिस के बीच टकराव की हमें कोई जानकारी नहीं

 

 केंद्र सरकार के तीनों कृषि कानूनों को वापस लिए जाने और न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) पर कानून बनाने के लिए आंदोलन कर रहे किसानों का दिल्ली पुलिस के साथ मंगलवार को टकराव हो गया है। कई किसानों का पुलिस के साथ आमना-सामना भी हुआ, जिसके बाद पुलिस ने लाठीचार्ज किया और आंसू गैस के गोले छोड़े। वहीं, इस दौरान विभिन्न किसान संगठनों के नेता शांतिपूर्ण ट्रैक्टर रैली निकालने की अपील करते रहे। भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत, स्वराज इंडिया के संस्थापक योगेंद्र यादव समेत कई नेता सामने आए और पुलिस एवं किसानों के बीच हुए बवाल पर अपनी प्रतिक्रिया दी। योगेंद्र यादव ने किसानों से तय रूट पर ही रैली निकालने के लिए कहा।योगेंद्र यादव ने कहा कि मैं सभी किसानों और उनके नेताओं से अपील करता हूं कि वे तय हुए रूट और नियमों पर ही चलें। मुझे इस बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है कि कहां क्या हो रहा है। मैं जिस परेड का हिस्सा हूं, वह बहुत अनुशासित है। वहीं, दूसरी ओर भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने ट्रैक्टर रैली में किसी भी तरह की हुई हिंसा के बारे में जानकारी न होते हुए कहा कि रैली काफी शांतिपूर्ण तरीके से निकाली जा रही है। मुझे इस बारे (हिंसक घटनाओं की) में कोई जानकारी नहीं है। हम यहां गाजीपुर में हैं और यहां ट्रैफिक को रिलीज कर रहे हैं। 

आईटीओ पर किसानों पर पुलिस ने दागे आंसू गैस के गोले
कृषि कानूनों के विरोध में प्रदर्शन कर रहे किसानों के राष्ट्रीय राजधानी के आईटीओ पहुंचने के बाद दिल्ली में आगे की ओर बढ़ने की कोशिश पर पुलिस के साथ भिड़ंत हुई। पुलिस ने बल प्रयोग करते हुए लाठीचार्ज किया और आंसू गैस के गोले दागे। किसानों ने तय समय से पहले विभिन्न सीमा बिंदुओं से अपनी ट्रैक्टर परेड शुरू की। किसान अनुमति नहीं मिलने के बावजूद मध्य दिल्ली के आईटीओ पहुंच गए। प्रदर्शनकारी हाथ में डंडे लेकर पुलिस कर्मियों को दौड़ाते हुए दिखे। पुलिस ने भी लाठीचार्ज और आंसू गैस के गोले छोड़कर भीड़ को तितर-बितर करने का प्रयास किया।

लाल किले पर किसानों ने फहराया झंडा
प्रदर्शन करते हुए किसान लाल किले में घुस गए। सैकड़ों किसान प्राचीर तक पहुंच गए और फिर वहां पर अपना झंडा फहराया। हालांकि, इस दौरान वहां पर तिरंगा झंडा भी लहराते हुए देखा गया। लाल किले पर बड़ी संख्या में किसानों के पहुंचने के बाद वहां मौजूद पुलिस के जवानों ने उनसे वहां हटने की अपील की, लेकिन किसान लगातार जुटते चले गए। तीनों कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों के पास ट्रैक्टर भी थे। 


कानून हाथ में नहीं लें, शांति बनाए रखें: दिल्ली पुलिस


दिल्ली पुलिस ने मंगलवार को प्रदर्शनकारी किसानों से अपील की है कि वे कानून को हाथ में नहीं लें और शांति बनाए रखें। पुलिस की यह अपील राष्ट्रीय राजधानी में कई स्थानों पर पुलिस और प्रदर्शनकारी किसानों के बीच झड़प की घटना के बीच आई है। पुलिस ने किसानों से कहा कि वह पूर्व निर्धारित मार्ग पर ही ट्रैक्टर परेड़ निकाले। दिल्ली पुलिस के अतिरिक्त जनसंपर्क अधिकारी अनिल मित्तल ने कहा कि हम प्रदर्शनकारी किसानों से अनुरोध करते हैं कि वे कानून हाथ में नहीं ले और शांति बनाए रखें।'' पुलिस ने मंगलवार को किसानों पर तब लाठीचार्ज किया और आंसू गैस के गोले छोड़े जब पूर्व निर्धारित मार्ग से हटकर उनकी परेड आईटीओ सहित कई अन्य स्थानों पर पहुंच गई। किसान राजपथ की ओर जाना चाहते थे।

Sources:Agency News