काबुल एयरपोर्ट पर बड़े आतंकी हमले का खतरा, ब्रिटेन, अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया ने अपने नागरिकों को चेताया

 

   


 

कैनबरा /  ब्रिटेन, अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया ने "आतंकवादी हमले के बहुत बड़े खतरे" के कारण लोगों को काबुल हवाई अड्डे की यात्रा करने के खिलाफ चेतावनी दी है। जो लोग एयरपोर्ट के बाहर जमा हुए हैं, उन्हें तुरंत सुरक्षित स्थान पर जाने की सलाह दी गई है।  तालिबान के 15 अगस्त को राजधानी शहर पर नियंत्रण करने के बाद से पश्चिमी बलों ने काबुल हवाईअड्डे से 80,000 से अधिक लोगों को एयरलिफ्ट किया है। हवाईअड्डे पर अराजकता में कम से कम आठ लोगों की मौत हो गई है। द गार्जियन की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि यूके ने "आतंकवादी हमले के उच्च जोखिम" के बारे में बढ़ती चिंताओं को आवाज दी है, विशेष रूप से इस्लामिक स्टेट से संबद्ध समूह ISIS-K द्वारा आत्मघाती बमबारी करने की संभावना है।

 

अमेरिका की एडवायजरी 

अमेरिका ने अफगानिस्तान में अमेरिकियों को "गेट्स के बाहर सुरक्षा खतरों के कारण" हवाई अड्डे पर यात्रा या इकट्ठा नहीं होने की सलाह दी। अमेरिकी विदेश विभाग ने कहा, "एबी गेट, ईस्ट गेट या नॉर्थ गेट पर रहने वालों को अब तुरंत निकल जाना चाहिए।"  

ऑस्ट्रेलिया ने जारी किया अलर्ट 

ऑस्ट्रेलिया ने अफगानिस्तान में अपने नागरिकों को काबुल हवाईअड्डे न जाने की सलाह दी है जहां “आतंकवादी हमला होने का बहुत गंभीर खतरा है।” इसने कहा कि हवाईअड्डा परिसर में मौजूद ऑस्ट्रेलियाई नागरिकों को सुरक्षित स्थान पर जाने और अगले आदेश की प्रतीक्षा करने की सलाह दी जाती है।

ऑस्ट्रेलिया के विदेश मंत्री मारिसे पायने ने कहा कि यह यात्रा परामर्श ब्रिटेन और न्यूजीलैंड की संशोधित यात्रा सलाह के समान है। काबुल में अमेरिकी दूतावास ने अनिर्दिष्ट सुरक्षा मुद्दे पर अमेरिकी नागरिकों को हवाईअड्डे के तीन विशिष्ट द्वारों से दूर रहने की चेतावनी दी है। ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरीसन ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया ने पिछले हफ्ते बुधवार से करीब 4,000 लोगों को हवाईअड्डे से सुरक्षित निकाला है जिनमें से 1,200 को कल रात निकाला गया। उन्होंने कहा, “बेहद खतरनाक माहौल बना हुआ है।” मॉरीसन ने कहा, “ खतरा एवं जोखिम हर गुजरते दिन के साथ बढ़ रहा है, जैसा कि हम हमेशा से जानते थे कि ये बढ़ेगा, और इसलिए हम जल्दबाजी के साथ आगे बढ़ रहे हैं।