सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

मार्च से लगेगी 12 से 14 साल तक के बच्चों को वैक्सीन

जैसा की मालूम है कि देश में कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ टीकाकरण अभियान बहुत तेजी से चल रहा है। इसी कड़ी में 3 जनवरी से सरकार ने 15 से 18 साल के बच्चों के लिए टीकाकरण शुरू किया था। इसके अलावा 60 साल से ज्यादा उम्र के लोगों के लिए बूस्टर डोज की भी शुरुआत हो चुकी है।]  इन सबके बीच बच्चों के वैक्सीनेशन को लेकर अच्छा समाचार आ रहा है। आपको बता दें देश में मार्च महीने से 12 से 14 साल तक के बच्चों का कोरोना वैक्सीनेशन लगना शुरू हो जाएगा। इस बात की जानकारी टीकाकरण पर राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार समूह के प्रमुख एनके अरोड़ा ने दी। आपको बता दें कि देश में राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान के तहत अभी तक कोविड.19 रोधी टीकों की 157.20 करोड़ से अधिक खुराक दी जा चुकी हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ मनसुख मांडविया ने ट्वीट कर बताया कि 3 जनवरी से अब तक 15.18 आयु वर्ग के 3.5 करोड़ से अधिक बच्चों को कोविड-19 वैक्सीन की पहली डोज़ लगा दी गई है।  वहीं देश में टीकाकरण अभियान का एक वर्ष पूरा होने के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि इसने वैश्विक महामारी के खिलाफ लड़ाई को बेहद मजबूत बनाया और इसके चलते ही लो

जब हौसला हो तो उड़ान को पंख लग ही जाते हैं,शिक्षक पुत्र हिलाल ने किया कस्बे का नाम रोशन,

मुबारक हो हिलाल..... शिक्षक के बेटे ने यूएसए में हासिल की कंप्यूटर साइंस में मास्टर्स डिग्री कहते है की हौसले बुलंद हो तो एक दिन कामयाबी जरूर कदम चूमती है सात समंदर पार रहकर शिक्षक के बेटे ने कंप्यूटर साइंस में मास्टर्स डिग्री हासिल कर ना सिर्फ कस्बा का नाम रोशन किया बल्कि अपने जिला बदायूं का भी नाम रोशन किया है कस्बा के मोहल्ला खेड़ा के रहने वाले शिक्षक सय्यद इक्तेदार अहमद के पुत्र हिलाल रिज़वी ने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा कस्बा के ही रेड रोज़ स्कूल से की ब्लूमिंगडेल स्कूल बदायूं से हिलाल ने इंटर किया इसके बाद वह गाजियाबाद के आईएमएस इंजीनियरिंग कॉलेज, से कंप्यूटर साइंस में बीटेक किया इसी दौरान सहपाठी के कहने पर यूएसए जाने का मन बना लिया और यूएस जाने के लिए एग्जाम दिए और कई यूनिवर्सिटी में अप्लाई किया। जहां उन्हें अमेरिका की 5 अच्छी यूनिवर्सिटीज से एडमिशन लेटर आया। लेकिन हिलाल ने टेक्सास टेक यूनिवर्सिटी, लुबॉक यूएसए में 2019 में कंप्यूटर साइंस में मास्टर ऑफ साइंस (एमएस) करने का मौका मिला कैथरीन परिषद से 2 साल का कोर्स उन्होंने 18 महीने में ही ऑनर्स पास किया जॉब के साथ साथ उन्होंने रिसर्च असिस्टेंट की जॉब भी की इसी बीच उनके टीचर्स द्वारा प्रोसहित किया और उन्हें पीएचडी करने का प्रस्ताव मिला हिलाल ने फोन पर बताया फ़िलहाल वह एप्पल, गूगल, टेस्ला फेसबुक, में जॉब करने का इरादा है हिलाल आगे बताते है की अमेरिका एक अनजान शहर था शुरुआत में उन्हें काफी परेशानी का सामना करना पड़ा

टिप्पणियाँ

Popular Post